प्रेम मिलन ने मूर्तिकारों को आठ-आठ किलो अनाज


महानगर की सुप्रसिद्ध संस्था प्रेम मिलन (कोलकाता) ने शनिवार को उत्तर कोलकाता स्थित कुम्हारटोली के मूर्तिकारों के बीच कच्चा अनाज बांटा। प्रेम मिलन के सचिव चंद्रकांत सराफ ने बताया कि वैसे तो संस्था कोरोना महामारी के संक्रमण को रोकने के लिए जारी पूर्णबंदी (लॉकडाउन) के बीते दो सप्ताह से लगातार शहर के विभिन्न इलाकों व बस्ती इलाकों में सैकड़ों की खाद्य में खाद्य सामग्री (दाल, चावल, आटा, आलू, तेल) की पैकेट जरूरतमंदों के बीच बांटती आ रही है, लेकिन बीते ज्ञात हुआ कि एक से बढ़कर एक दर्शनीय मूर्ति बनाने वाले मूर्तिकार पूर्णबंदी की वजह से तंगहाल जीवन जी रहे हैं। तब  हमने मूर्तिकारों की पीड़ा को महसूस करते हुए इन्हें खाद्य सामग्री बांटने का फैसला  किया।

प्रेम मिलन की तरफ से बताया गया कि राज्य सरकार में मंत्री डॉ. शशि पांजा की मौजूदगी में आज 200 मूर्तिकारों को आठ किलो अनाज (दाल, चावल, आटा व आलू) अनाज का थैला दिया। इस मौके पर डॉ. पांजा ने कहा कि मूर्तिकारों की पीड़ा को भांपते हुए प्रेम मिलन ने सराहनीय काम किया है। उन्होंने कहा कि शीतला पूजा, बासंती पूजा, हनुमान जयंती, राम नवमी  व पोइला बैशाख पर इस बार कुम्हारटोली में सन्नाटा छाया रहा। यहां तक कि दुर्गा मूर्ति निर्माण में भी इन्हें दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। पूर्णबंदी की वजह से मूर्तिकारों ने ना आर्डर मिल रहा है और ना ही अर्थ (धन)। ऐसी स्थिति में देवी-देवताओं की प्रतिमा बनाने वाले मूर्तिकारों के लिए मदद का हाथ बढ़ाकर प्रेम मिलन ने मानो देवी-देवताओं की ही पूजा की है।

इस मौके पर वार्ड 20 के पार्षद विजय उपाध्याय, मिंटू पाल समेत कई जानेमाने लोग उपस्थित थे। सभी ने मुक्त कुंठ से प्रेम मिलन के सेवा कार्य की प्रशंसा की।

खाद्य सामग्री वितरण समारोह को सफल बनाने विकास सराफ, विशाल सराफ, आकाश अग्रवाल, दीपक बंसल, मनोज जायसवाल व निधिश अग्रवाल सक्रिय रहे।