About Me

header ads

कोरोना वायरस: नहीं माना पाकिस्तान, सार्क वीडियो कॉन्फ्रेंस में फोड़ दिया कश्मीर बम


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोरोना वायरस से निपटने के लिए सार्क देशों को एकजुट करने में लगे हुए हैं. पाकिस्तान इस खतरनाक वायरस से निपटने में सहयोग करने की बजाए नापाक हरकतें कर रहा है. रविवार को प्रधानमंत्री मोदी और सार्क देशों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के दौरान पाकिस्तान ने कश्मीर बम फोड़ दिया.

इसमें पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान खुद शामिल नहीं हुए. उनकी जगह पाकिस्तान के स्वास्थ्य मंत्री जफर मिर्जा ने वीडियो कॉन्फ्रेंस में हिस्सा लिया. इस दौरान पाकिस्तानी स्वास्थ्य मंत्री जफर मिर्जा ने कश्मीर मुद्दा उठाते हुए कहा कि कोरोनो वायरस के खतरे से निपटने के लिए जम्मू-कश्मीर में सभी प्रतिबंध हटाए जाने चाहिए. उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर में भी कोरोना वायरस के मामले सामने आए हैं.

पाकिस्तान के स्वास्थ्य मंत्री जफर मिर्जा ने कहा, 'COVID-19 सबसे खतरनाक महामारी बन चुका है. कोरोना वायरस के 155,000 मामले सामने आ चुके हैं. 5,833 लोगों की मौत हो चुकी है. 138 देशों में यह फैल गया है. हमें हर हाल में कोरोना वारयस से निपटने के लिए तैयार होना होगा.'

पाकिस्तान के स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, 'हमें इससे निपटने के लिए तैयार रहना होगा. सुरक्षात्मक कदम ही इससे बचा सकते हैं. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान स्वास्थ्य सेवाओं पर नजर रख रहे हैं. एयरपोर्ट और बंदरगाहों पर नजर रखी जा रही है. स्क्रीनिंग की जा रही है. सामूहिक जुटाव पर प्रतिबंध लगाया जा रहा है. एकसाथ मिलकर हम चुनौतियों से निपट लेंगे.'

कोरोना को हराने के लिए हिंदुस्तान ने कसी कमर

वहीं, कोरोना को हराने के लिए प्रधानमंत्री मोदी ने कमर कस ली है. हिंदुस्तान में कोरोना ने बेशक 108 लोगों को अपनी चपेट में ले लिया है, लेकिन प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में देश कोरोना को हराने के लिए एकजुट है. कोरोना के खिलाफ इस मुहिम में पीएम मोदी ने अपने साथ सार्क के बाकी 7 देशों को भी जोड़ने का बड़ा कदम उठाया है.

रविवार को वीडियो कॉन्फ्रेंस के दौरान पीएम मोदी ने सार्क देशों के नेताओं को संबोधित करते हुए कोरोना को हराने का मूलमंत्र समझाया. पीएम मोदी ने कहा कि सभी सार्क देशों को सावधानी बरतनी होगी और कोरोना वायरस से घबराने की जरूरत नहीं है, बल्कि इससे निपटने के लिए तैयार रहने की जरूरत है.

पीएम मोदी ने COVID19 इमरजेंसी फंड बनाने का रखा प्रस्ताव

पीएम मोदी ने सार्क देशों से जानकारी साझा करते हुए कहा कि कैसे भारत विदेशों से करीब 1400 भारतीय को सुरक्षित वापस लेकर आया और जनवरी से ही एहतियात और जांच शुरू कर दिया था.

कोरोना वायरस के खतरे पर सभी सार्क देशों को वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा, 'मेरा प्रस्ताव है कि हम COVID-19 इमरजेंसी फंड बनाएं. यह हम सभी के स्वैच्छिक योगदान पर आधारित हो सकता है. भारत इस फंड के लिए एक करोड़ अमेरिकी डॉलर के कंट्रीब्यूशन के साथ शुरुआत कर सकता है.

उन्होंने कहा, 'हम परीक्षण किट और अन्य उपकरणों के साथ भारत में डॉक्टरों और विशेषज्ञों की एक रैपिड रिस्पांस टीम तैयार कर रहे हैं.'