फांसी का फंदा सामने देख कांपे निर्भया के गुनहगार, राष्ट्रपति से लगाई दया की गुहार


निर्भया गैंगरेप और हत्या मामले में सुप्रीम कोर्ट से मौत की सजा पाए दोषी अक्षय, विनय और पवन ने राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद के समक्ष दया याचिका दायर की है. दोषियों ने तिहाड़ जेल प्रशासन को दया याचिका सौंप दी है. दोषियों के वकीलों का कहना है कि इस दौरान सुप्रीम कोर्ट में तीनों की ओर से क्यूरेटिव याचिका भी लगाई गई है. एक दोषी अक्षय की पुनर्विचार याचिका सुप्रीम कोर्ट से पहले ही खारिज हो चुकी है.

मंगलवार को दिया था जेल प्रशासन को जवाब

निर्भया गैंगरेप के दोषियों ने तिहाड़ जेल प्रशासन को अपना जवाब दे दिया. निर्भया के वकील एपी सिंह ने कहा कि तीन दोषियों की तरफ से अभी क्यूरेटिव याचिका दाखिल करनी है. दया याचिका दायर तब करेंगे जब क्यूरेटिव याचिका का निपटारा हो जाएगा. उन्होंने आगे कहा कि अगर याचिका खारिज हुई तो अंतिम विकल्प आजमाया जाएगा. गौरतलब है कि कोर्ट के आदेश पर तिहाड़ जेल प्रशासन ने चारों दोषियों को नोटिस जारी किया था.

सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दी अक्षय की पुनर्विचार याचिका

निर्भया गैंगरेप के गुनाहगार अक्षय ठाकुर की पुनर्विचार याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया था. सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि निर्भया केस में जांच और ट्रायल बिल्कुल सही हुआ. दोषियों ने इस पर सवाल उठाए थे. इस मामले में सुनवाई के दौरान अक्षय के वकील ने निर्भया के दोस्त के कथित खुलासे का हवाला दिया था. कोर्ट ने इसे अप्रासंगिक बताया था.