देश के मुसलमानों का नागरिकता कानून से कोई लेना-देना नहीं: PM मोदी


नागरिकता संशोधन कानून (CAA) को लेकर जारी प्रदर्शनों के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विपक्ष पर करारा हमला बोला है. दिल्ली के रामलीला मैदान में जनसभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून को लेकर देश के मुसलमानों में अफवाह फैलाई जा रही है.

रविवार को पीएम मोदी ने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून किसी भी नागरिक की नागरिकता छिनने के लिए नहीं है. देश के मुसलमानों का नागरिकता कानून से कोई लेना-देना नहीं है. पीएम मोदी ने कहा कि भारत की संसद ने दलितों और शोषितों के उज्जवल भविष्य के लिए नागरिकता संशोधन कानून बनाया है. सभी को देश की जनता के चुने हुए सांसदों, लोकसभा और राज्यसभा का सम्मान करना चाहिए.

उन्होंने कहा कि इस कानून के संसद से पास होने के बाद कुछ राजनीतिक दल तरह-तरह की अफवाहें फैलाने में लगे हैं. ये लोग भ्रमित कर रहे हैं और भावनाओं को भड़का रहे हैं. मैं भ्रम फैलाने वाले और झूठ बोलने वालों से पूछना चाहता हूं कि जब हमने दिल्ली के सैकड़ों कॉलोनियों को नियमित किया था, तो क्या हमने आपसे ये पूछा था कि आपका धर्म क्या है, जाति क्या है और क्या आपसे कोई सबूत मांगा था?

केंद्र सरकार की इस योजना का लाभ हिन्दुओं को मिला, मुसलमानों को मिला, सिखों को मिला और ईसाइयों को भी मिला. हमने ऐसा क्यों किया? क्योंकि हम देशवासियों के लगाव के साथ जीते हैं. विपक्ष पर निशाना साधते हुए पीएम मोदी ने कहा कि अगर भगवान ने थोड़ी सी भी बुद्धि दी हो, तो उपयोग भी करो. विपक्षी दलों को घेरते हुए पीएम मोदी ने कहा कि मैं इन लोगों को चुनौती देता हूं कि जाइए मेरे काम का पड़ताल कीजिए. कहीं से भी बू आती हो, तो पूरे देश के सामने रख दीजिए.