Violence: बंगाल में भाजपा कार्यकर्ताओं को मारी गोली, चार गिरफ्तार


बंगाल में राजनीतिक हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है. आए दिन भाजपा और तृणमूल के बीच हिंसा की खबरें आती रहती है. इस बीच, एक बार फिर दोनों पार्टियों के बीच संघर्ष का मामला प्रकाश में आया है. ताजा घटना उत्तर 24 परगना जिले के सोदपुर के घोला थानांतर्गत इलाके की है. एक सभा के बाद हुए संघर्ष में चलाई गई गोली से यहां पार्टी के दो सक्रिय कार्यकर्ता जख्मी हो गए. इस मामले में पुलिस ने चार लोगों को गिरफ्तार किया है.

सूत्रों के मुताबिक, इनमें से एक के पैर और दूसरे के कंधे में गोली लगी है। दोनों के नाम परितोष और सोमनाथ है. वहीं, गोली चलाने के लिए तृणमूल कार्यकर्ता पर आरोप लगाया गया है. पार्टी सूत्रों के मुताबिक, सोमवार रात इन दोनों को लक्ष्य कर गोली चलाई गई थी. ये दोनों पार्टी के कार्यक्रम से लौट रहे थे. उसी समय तृणमूल के गुंडों ने उन्हें घेर लिया और गोली चला दी. हालांकि वे जैसे-तैसे वहां से बचकर भाग निकले. वहीं सूचना मिलने के बाद भारी संख्या में भाजपा कार्यकर्ता मौके पर पहुंचे और दोनों को अस्पताल में भर्ती कराया, जहां उनका इलाज चल रहा है. सूत्र ने बताया कि इस मामले में सोदपुर थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई गई है. वहीं प्राथमिकी दर्ज होने के बाद जांच में जुटी पुलिस ने चार लोगों को गिरफ्तार किया है. उनसे पूछताछ की जा रही है। मामले की जांच जारी है.

वर्चस्व की लड़ाई को लेकर आमने सामने आए दोनों गुट

सांईथिया में गत दिनों इलाका दखल को लेकर सत्ताधारी पार्टी तृणमूल कांग्रेस के दो गुटों में हुए संघर्ष में जमकर बमबाजी व फायरिंग की गई. गोली लगने से एक राहगीर की मौत हो गई जबकि कई लोग जख्मी हो गए। गांव में तनाव के मद्देनजर पुलिस बल की तैनाती की गई है. पुलिस ने घटना की जांच शुरू कर दी है.

सूत्रों के अनुसार, सांईथिया के कल्याणपुर गांव में वर्चस्व कायम करने को लेकर लंबे समय से तृणमूल क्षेत्र अध्यक्ष और जिला तृणमूल के एक नेता के बीच विवाद चला आ रहा है. सोमवार रात एक दोनों गुटों के समर्थक गांव में वर्चस्व कायम करने को लेकर आमने सामने आ गए. विवाद बढ़ते ही दोनों ओर से बमबाजी और फाय¨रग होने लगी। मंगलवार सुबह भी दोनों गुटों में संघर्ष चलता रहा. उसी बीच शेख इंसान (26) नामक युवक दुकान जा रहा था. तभी तीन गोली उसके शरीर में आकर लगी. गंभीर रूप से जख्मी युवक को लोगों ने स्थानीय अस्पताल पहुंचाया, जहां डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया.

संघर्ष में दोनों गुटों के कई लोग भी जख्मी हो गए। सूचना पर पहुंची पुलिस ने किसी तरह स्थिति को नियंत्रित किया. तनाव के मद्देनजर गांव में पुलिस बल की तैनाती की गई है. मृतक के परिवार का दावा है कि इंसान का किसी भी सियासी पार्टी से संबंध नहीं था. आरोप लगाया कि डालिम, तहिरुल समेत अन्य लोगों ने जानबूझ कर इंसान को गोली मार दी. उन्होंने आरोपितों को कठोर सजा दिए जाने की मांग की है. उधर, भाजपा ने घटना के पीछे तृणमूल की गुटबाजी बताया है. जिला तृणमूल उपाध्यक्ष अभिजीत सिंह ने आरोप का निराधार बताया. कहा कि असमाजिक तत्वों के बीच संघर्ष में ही युवक की जान चली गई.