मोदी-शाह से ममता की मुलाकात को क्यों जीत के रूप में देख रही BJP?


पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की गुरुवार(19 सितंबर) को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात को बीजेपी अपनी जीत के रूप में देख रही है. बीजेपी नेताओं के बयानों से इस बात के संकेत मिलते हैं. बयानों से यह जताने की कोशिश हो रही कि बीजेपी से राजनीतिक वर्चस्व की लड़ाई लड़ने वाली ममता बनर्जी को अब बैकफुट पर आना पड़ा है.

बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव और पश्चिम बंगाल प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने ममता की मुलाकात की तुलना ऊंट के पहाड़ के नीचे आने से कर दी. उन्होंने ट्वीट कर एक सवाल उछालते हुए कुछ यूं कहा," अब आया ऊंट पहाड़ के नीचे !! पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का प्रधानमंत्री  नरेंद्र मोदी एवं गृह मंत्री से मुलाकात को क्या इस अर्थ में लिया जाए?

वहीं मध्य प्रदेश में बीजेपी के प्रदेश उपाध्यक्ष जीतू जिराती के ट्वीट को भी कैलाश विजयवर्गीय ने रिट्वीट किया. जिसमें जीतू ने ममता बनर्जी के पुराने बयानों का जिक्र कर तंज कसा है. जीतू ने ट्वीट करते हुए लिखा- मैं नरेंद्र जी मोदी को प्रधानमंत्री नही मानती, मोदी जी को मैं बंगाल में कंकड़ वाले रसगुल्ले खिलाऊंगी. बंगाल में हेलीकॉप्टर नही उतारने दूंगी. ममता के इन पुराने बयानों का जिक्र करते हुए आखिर में जीतू ने लिखा- किनसे मिलने गई हो पुष्प गुच्छ लेकर दीदी....अब आया.......के नीचे.

2 साल बाद हुई मुलाकात

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से ममता बनर्जी की यह दो साल में पहली वन टू वन मुलाकात है. पश्चिम बंगाल में पैर पसारने में तेजी से जुटी बीजेपी से कई मुद्दों को लेकर ममता बनर्जी की भिड़त हो चुकी है. वह पीएम मोदी और अमित शाह के खिलाफ कई मौकं पर तीखी भाषा का इस्तेमाल करतीं रहीं हैं. इससे पहले पीएम मोदी की बैठकों का भी बहिष्कार कर चुकी है. मिसाल के तौर पर 'एक देश-एक चुनाव' के मसले पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में ममता बनर्जी शामिल नहीं हुईं थीं.

इसी तरह, शारदा चिटफंड घोटाले में पिछले वर्ष जब सीबीआई राजीव कुमार से पूछताछ करने पहुंची थी तो कोलकाता पुलिस ने टीम को ही हिरासत में ले लिया था. वह सीबीआई की छापेमारी के खिलाफ धरने पर बैठ गईं थीं. राज्य में बिना अनुमति के छापेमारी के लिए सीबीआई के घुसने पर भी रोक है.

 पश्चिम बंगाल में सियासी रंजिश में 80 से अधिक  कार्यकर्ताओं की मौत पर भी ममता की पार्टी टीएमसी और बीजेपी में तकरार होती रही है. इतनी टकराव मोल लेने और अब तक भेंट से परहेज करने वालीं ममता बनर्जी के अब पीएम मोदी और अमित शाह से मिलने के लिए दिल्ली पहुंचने को बीजेपी अपनी जीत के रूप में देख रही है. यही वजह है कि बीजेपी के नेता इस मुलाकात की बैकफुट पर आने के रूप में व्याख्या कर रहे हैं.

Subscribe Yuva Shakti Youtube channel for more updates: