About Me

header ads

हद है पुलिस की घूसखोरी: थानेदार ने घूस में मांगा Reebok का 'जूता'


एक विवादित जमीन पर धारा-144 की कार्रवाई करने के लिए दीघा थाने के दारोगा पंकज कुमार ने घूस में बेटे के लिए रिबॉक ( Reebok) कंपनी का महंगा जूते मांग लिया। इस घूसखोरी का अॉडियो वायरल होने के बाद पुलिस महकमे में हंगामा मच गया. दारोगा, उसके दलाल व शराब माफिया मुकेश उर्फ मक्शी और शिकायतकर्ता शत्रुघ्न यादव के बीच हुईं बातों की रिकॉर्डिंग वायरल होने के बाद एसएसपी ने कार्रवाई करते हुए दारोगा पंकज कुमार को सस्पेंड कर दिया है. 

प्रारंभिक जांच में रिश्वत की बात सत्य पाई गई, जिसके बाद एसएसपी गरिमा मलिक ने दारोगा पंकज कुमार को सस्पेंड कर दिया. उसके विरुद्ध विभागीय कार्यवाही शुरू कर दी गई है. डीएसपी (विधि-व्यवस्था) डॉ. राकेश कुमार पूरे मामले की जांच कर रहे हैं.

पहले ही दारोगा ले चुका है सात हजार की नकदी

विवादित जमीन पर हिंसा की आशंका को देखते हुए दीघा निवासी शत्रुघ्न यादव ने थाने में शिकायत की थी, जिसकी जांच का जिम्मा दारोगा पंकज कुमार को सौंपा गया था. दारोगा ने उस विवादित भूखंड पर धारा-144 (निषेधाज्ञा) की कार्रवाई करने के लिए 10 सितंबर को शत्रुघ्न से सात हजार रुपये लिए.

दारोगा ने उसे मुकेश से मिलाया और आगे की बातें उसी से करने को कहा. मुकेश के जरिए दारोगा ने बच्चे के लिए जूता मांगा. शत्रुघ्न ने 2500 रुपये में 15 सितंबर को रिबॉक कंपनी का ब्लू रंग का जूता खरीदकर दारोगा को दिया, लेकिन उसने धारा-144 की कार्रवाई की अनुशंसा नहीं की.

दारोगा की है शराब माफिया मुकेश और सुनील से सांठगाठ

दीघा के गेट नंबर-93 निवासी मुकेश उर्फ मक्शी और उसका भाई सुनील दोनों शराब कारोबारी हैं. बक्सर जिले की पुलिस ने सफेद रंग की स्विफ्ट कार में शराब की खेप के साथ सुनील व उसके अन्य साथियों को गिरफ्तार किया था, जबकि मक्शी भागने में कामयाब रहा था.

दारोगा पंकज कुमार और शराब माफिया से साठ-गांठ की बात सामने आने पर पुलिस मुख्यालय ने भी मामले का संज्ञान लिया है. विशेष शाखा, मद्य निषेध शाखा और आर्थिक अपराध इकाई की टीमें दारोगा व मक्शी की कुंडली खंगाल रही हैं. इस मामले में मुख्यालय स्तर से भी जल्द बड़ी कार्रवाई की जा सकती है.