गूगल से मिला मधुबनी की संप्रीति यादव को 1.11करोड़ का पैकेज, बच्चो के लिये बनी प्रेरणास्रोत

 मधुबनी जिले के बिस्फी निवासी वाटसन स्कूल, मधुबनी से बड़ा बाबू के पद से सेवानिवृत्त स्वर्गीय अरुण कुमार घोष एवं मध्य विद्यालय गदियानी, मधुबनी की सेवानिवृत्त प्रधानाध्यापिका चंद्रकला घोष की नतिनी संप्रीति यादव ने अपनी मेहनत और इच्छाशक्ति के बल पर सफलता की नई ऊचाईयों को छू लिया है।उन्होने मधुबनी जिले के साथ प्रदेश का भी नाम रौशन किया है। संप्रीति यादव को गूगल ने 1करोड़ 11लाख रुपये का सलाना जॉब दिया है। संप्रीति यादव साफ्टवेयर इंजीनियर है। दूसरे बच्चो के लिये प्रेरणास्रोत बनी संप्रीति अब गूगल के लिये काम करेंगी। परिजनो से मिली जानकारी के अनुसार वह लंदन मे 14फरवरी से गूगल मे काम करना शुरू करेंगी।



आपको बता दे की संप्रीति यादव मधुबनी के ही हरलाखी प्रखंड के गँगौर पछगछिया निवासी पटना के स्टेट बैंक मे कार्यरत अधिकारी रमाशंकर यादव एवं शशि प्रभा, सहायक निदेशक, अर्थ एवं सांख्यिकी निदेशालय, योजना एवं विकास विभाग की सुपुत्री है। अभी संप्रीति यादव पटना के नेहरू नगर मे अपने माता-पिता के साथ रहती है।
संप्रीति यादव की प्रारंभिक शिक्षा पटना मे हुई। उसके बाद दिल्ली टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी से कंप्यूटर साइंस से बीटेक किया है, और उन्हें चार बड़ी कंपनियों से जॉब का ऑफर मिला था। इसमें से संप्रीति यादव ने माइक्रोसॉफ्ट के साथ काम करना शुरू किया। अभी वहाँ वह 44लाख रुपये के पैकेज पर काम कर रही है। नौकरी के साथ उन्होने कैरियर मे कुछ बड़ा करने का अपना प्रयास जारी रखा। इसी बीच उनको गूगल से ऑफर मिला। इंटरव्यू पास करने के बाद गूगल ने संप्रीति यादव को 1 करोड़ 11लाख रुपये का सालान पैकेज दिया। अभी वह मात्र 24साल की है। उन्होने बताया की वह आगे भी नई ऊचाईयों को छूने का अपना प्रयास जारी रखेगी। उन्होने बताया की पढ़ाई के अलावा उन्हे संगीत,खेल एवं नाटक मे रुचि है।
गूगल में सेलेक्शन के बारे में जानकारी देते हुए संप्रीति यादव ने बताया कि गूगल की टीम ने उनका नौ राउंड का ऑनलाइन इंटरव्यू लिया। हर राउंड में उसके जवाब से गूगल के अधिकारी संतुष्ट रहे। इसके बाद उन्हें गूगल की ओर से जॉब का ऑफर दिया गया। अपनी सफलता के बारे में बताते हुए संप्रीति यादव ने नई पीढ़ी को सलाह दी की कुछ बड़ा करने की चाहत रखते है, तो पहले अपना लक्ष्य तय करें। फिर उसके हिसाब से तैयारी करें तो आपको कामयाबी जरूर मिलेगी। ईमानदारी से की गई मेहनत कभी नाकाम नही होती है। कड़ी मेहनत ही सफलता की कुंजी है। संप्रीति यादव के इस सफलता से घर मे खुशी का माहौल है, रिश्तेदार लगातार बधाई एवं शुभकामनाए दे रहे है।