सिंगापुर में अब इन 11 देशों के यात्री बिना क्वारंटाइन हुए कर सकेंगे यात्रा, भारत को नहीं मिली छूट

सिंगापुर ने एक बड़ी घोषणा करते हुए कहा कि वह क्वारंटाइन की आवश्यकता के बिना अन्य 9 देशों के यात्रियों के लिए अपनी सीमाओं को फिर से खोल देगा। 8 सितंबर से, ब्रुनेई और जर्मनी के यात्री, जो सिंगापुर वैक्सीनेटेड ट्रैवल लेन (वीटीएल) के परीक्षण पर थे, पहले से ही सिंगापुर में क्वारंटाइन-मुक्त प्रवेश का आनंद ले रहे हैं।

19 अक्टूबर से, अन्य छह यूरोपीय देशों - डेनमार्क, फ्रांस, इटली, नीदरलैंड, स्पेन और यूनाइटेड किंगडम, और संयुक्त राज्य अमेरिका और कनाडा के टीकाकरण वाले यात्री सिंगापुर वीटीएल योजना पर जर्मनी और ब्रुनेई के यात्रियों के जैसे ही यात्रा कर सकेंगे। इसके अलावा दक्षिण कोरिया से यात्रा करने वाले लोग 15 नवंबर से सिंगापुर क्वारंटाइन-फ्री में प्रवेश कर सकेंगे।

वीटीएल देशों से यात्रा करने पर विचार करने के लिए, यात्रियों को अपनी यात्रा से पहले लगातार 14 दिनों तक इन देशों में रहना होगा। वीटीएल योजना पर यात्रा करने वालों को वीटीएल नामित उड़ान पर उड़ान भरनी होगी जो इस समय मुख्य रूप से सिंगापुर एयरलाइंस और लुफ्थांसा (जर्मनी से) द्वारा संचालित हैं।

सिंगापुर पहुंचने वाले यात्रियों को उड़ान प्रस्थान के 48 घंटों के भीतर प्रस्थान पूर्व पीसीआर COVID-19 परीक्षण से गुजरना होगा और चांगी हवाई अड्डे पर आगमन पर एक और टेस्ट कराना होगा। सिंगापुर के गैर-निवासियों को भी सिंगापुर में इच्छित प्रवेश से सात से 30 दिनों के बीच टीकाकरण यात्रा पास (वीआरपी) के लिए आनलाइन आवेदन करना होगा।

घोषणा के दिन, सिंगापुर के प्रधानमंत्री ली सीन लूंग ने कहा, 'सिंगापुर अनिश्चित काल के लिए बंद नहीं रह सकता है। ऐसे काम नहीं चलेगा और महंगाई बढ़ेगी। हम अपने जीवन को फिर से शुरू करने, सामाजिक गतिविधियों में भाग लेने, अपनी सीमाओं को खोलने और अपनी अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित करने में असमर्थ होंगे।'

हालांकि, सिंगापुर वीटीएल इस समय चीन, इंडोनेशिया और भारत के यात्रियों को छूट नहीं देता है। शीर्ष तीन देश जहां से 2019 में सिंगापुर में पहुंचने वाले लोगों में लगभग 43 फीसद का हिस्सा हैं। 2019 में 1.42 मिलियन भारतीय सिंगापुर गए थे।