बंगाल में कांग्रेस जीरो पर, 2016 के चुनाव के बाद विधानसभा में 44 विधायकों के साथ थी दूसरी सबसे बड़ी पार्टी

बंगाल उपचुनाव में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) की जीत के साथ, कांग्रेस के अंदरूनी सूत्रों का कहना है कि सबसे बड़ा नुकसान उनकी पार्टी को हुआ है, जिसने औपचारिक रूप से भाजपा को विपक्ष की जगह दे दी है, जो अब राज्य में दूसरे नंबर पर है। यह उत्तर प्रदेश और बिहार के बाद बंगाल को तीसरा बड़ा राज्य बनाता है, जहां कांग्रेस की मौजूदगी खत्म हो रही है।

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने 84,709 वोट हासिल किए, उन्होंने भाजपा की प्रियंका टिबरेवाल को निर्णायक रूप से हराया, जिन्होंने भवानीपुर उपचुनाव में 26,350 वोट हासिल किए, जबकि मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के श्रीजीब बिस्वास केवल 4,201 वोट हासिल करने में सफल रहे। मुर्शिदाबाद जिले की जंगीपुर और शमशेरगंज विधानसभा सीट पर भी तृणमूल ने बंपर जीत दर्ज की है, जो कभी पारंपरिक रूप से कांग्रेस का गढ़ हुआ करता था।

कांग्रेस, जिसने भवानीपुर से इस बार उपचुनाव नहीं लड़ा था, 2016 के चुनावों के बाद विधानसभा में 44 विधायकों के साथ दूसरी सबसे बड़ी पार्टी थी, लेकिन अब उसके पास राज्य से एक भी विधायक नहीं है। सिर्फ दो लोकसभा और एक राज्यसभा सांसद हैं। पार्टी को वस्तुत: नए सिरे से शुरुआत करनी होगी, क्योंकि अधिक से अधिक नेता तृणमूल की ओर बढ़ रहे हैं।

उधर, उत्तर प्रदेश में कांग्रेस पार्टी के पास केवल एक लोकसभा सांसद है और 2017 में चुने गए सात विधायकों में से दो ने पार्टी छोड़ दी है। बिहार में भी कांग्रेस के पास एक लोकसभा सीट है और 19 विधायक हैं।इन राज्यों में 162 लोकसभा सीटों (यूपी 80, बंगाल 42 और बिहार 40) के लिए कांग्रेस की स्थिति अस्थिर है। इन सभी राज्यों में, क्षेत्रीय दलों - यूपी में सपा/बसपा, बिहार में राजद और अब बंगाल में तृणमूल ने कांग्रेस को परिधि में धकेल दिया है। विशेषज्ञों का कहना है कि पार्टी अगर 2024 के आम चुनावों में अपनी छाप छोड़ना चाहती है तो उसे अपनी रणनीति में बदलाव करना होगा।