गुजरात से बिहार के बीच चली पहली 'textile parcel स्पेशल ट्रेन', देगी सूरत के कपड़ा बाजार को रफ्तार

गुजरात से बिहार के बीच पहली 'textile parcel' स्पेशल ट्रेन को चलाया गया है। इस ट्रेन में 25 नए माल वैगन हैं और इसे गुजरात से बिहार तक कपड़ा सामग्री को ले जाने के उद्देश्य से चलाया गया है। पश्चिम रेलवे के अधिकारियों ने कहा कि पहली 'टेक्सटाइल पार्सल' विशेष ट्रेन में 25 नए संशोधित माल वैगन हैं, जिन्हें गुजरात से बिहार तक कपड़ा सामग्री ले जाने के लिए अनुकूलित किया गया है। साथ ही इसका लक्ष्य परिवहन के एक किफायती, तेज और सुरक्षित साधन के माध्यम से सूरत के कपड़ा बाजार को बढ़ावा देने का है।

पश्चिम रेलवे (डब्ल्यूआर) ने एक विज्ञप्ति में कहा कि "रेल और कपड़ा राज्य मंत्री दर्शन जरदोश ने शनिवार को लिए सूरत के उधना न्यू गुड्स शेड से पटना के पास दानापुर और बिहार के मुजफ्फरपुर के पास राम दयालू नगर के लिए ट्रेन को हरी झंडी दिखाई।"

डब्ल्यूआर के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी सुमित ठाकुर द्वारा जारी विज्ञप्ति में कहा गया कि "उधना न्यू गुड्स शेड में कस्टमाइज्ड एनएमजी (नए संशोधित माल) वैगनों में पहली बार कपड़ा यातायात लोड किया गया है। इस दिशा में, 25 एनएमजी वैगनों से युक्त टेक्सटाइल पार्सल स्पेशल ट्रेन पहली बार उधना न्यू गुड्स शेड से पटना और मुजफ्फरपुर के लिए कपड़ा सामग्री लेकर चलाई गई थी। यह विशेष रूप से सूरत क्षेत्र के कपड़ा बाजार को लाभान्वित करेगी, क्योंकि यह किफायती, तेज और सुरक्षित है। इसने कपड़ा बाजार की विशाल क्षमता को बढ़ाने का अवसर प्रदान किया है साथ ही यह सूरत शहर और उसके आसपास कपड़ा उद्योग के गोदाम केंद्रों की परिवहन जरूरतों को पूरा करेगी।"

इसके अलावा विज्ञप्ति में यह भी कहा गया है कि, "हाल ही में, पश्चिम रेलवे के मुंबई मंडल ने पहली बार 202.4 टन वजन की कपड़ा सामग्री को सूरत के पास चलथन से कोलकाता के शालीमार तक पहुँचाया था। डब्ल्यूआर ने एनएमजी वैगन लोडिंग के लिए इस प्रकार के यातायात को संभालने के लिए मुंबई डिवीजन में चार टर्मिनल - सूरत, उधना न्यू गुड्स शेड, चलथन और गंगाधारा उपलब्ध कराए हैं। एनएमजी रेक का चलना सूरत क्षेत्र से भारत के विभिन्न हिस्सों में जाने वाले कपड़ा यातायात की हिस्सेदारी बढ़ाने के लिए एक बड़ा बूस्टर होगा।"

पश्चिम रेलवे के अनुसार, "परिवहन और व्यापारी संघों के साथ नियमित बैठकों ने एक सेवा प्रदाता के रूप में रेल के प्रति उद्योग की धारणा को बदलने में मदद की है।"