अफगानिस्तान से 78 यात्रियों को लेकर दिल्ली पहुंचा वायुसेना का विमान, गुरूग्रंथ साहिब की प्रतियां भी लाई गईं

तालिबान के कब्जे के बाद अफगानिस्तान में हालात लगातार बिगड़ रहे है। काबुल एयरपोर्ट पर लोगों की अफरा-तफरी के बीच भारत वहां से अपने लोगों को लगातार निकालने का प्रयास कर रहा है। वहीं, 25 भारतीय नागरिकों सहित 78 यात्रियों को लेकर एयर इंडिया की एक फ्लाइट ताजिकिस्तान के दुशांबे से नई दिल्ली पहुंची है। इसके अलावा विमान से गुरूग्रंथ साहिब की तीन प्रतियों को भी लाया गया है। केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पूरी काबुल से आए गुरुग्रंथ साहिब के स्वरूपों को दिल्ली एयरपोर्ट से बाहर लेकर आए। भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा है कि सरकार अफगानिस्तान से सभी भारतीय नागरिकों की सुरक्षित वापसी के लिए प्रतिबद्ध है।

काबुल के मौजूदा हालात और एयरपोर्ट पर मची अफरा-तफरी के बीच भारतीयों के साथ-साथ अफगानिस्तान के नागरिकों का वहां से निकालना आसान नहीं है। सबसे बड़ी समस्या तो उन्हें एयरपोर्ट तक पहुंचाने की ही है। इन तमाम चुनौतियों के बावजूद भारत अब तक 800 से अधिक लोगों को वहां से सुरक्षित निकालने में सफल रहा है। इनमें अफगान हिंदू और सिख के साथ ही नेपाली नागरिक भी शामिल हैं।

इससे पहले विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने ट्विटर पर कहा था कि काबुल से लोगों को निकाला जा रहा है। बागची ने ट्वीट किया, 'अफगानिस्तान से सुरक्षित वापसी में मदद की जा रही है। एयर इंडिया का 1956 विमान दुशांबे से 78 यात्रियों को लेकर दिल्ली आ रहा है, जिसमें 25 भारतीय नागरिक भी शामिल हैं। फ्लाइट में सवार यात्रियों ने अफगानिस्तान से सुरक्षित वापसी के लिए भारत सरकार को धन्यवाद दिया। इस दौरान लोगों ने विमान में 'वहे गुरु का खालसा, वही गुरु की फतेह' के नारे भी लगाए। इससे पहले, भारतीय अधिकारियों ने सोमवार को युद्धग्रस्त अफगानिस्तान में बिगड़ते हालात के बीच 75 सिखों को निकाला।

अफगानिस्तान की स्थिति लगातार खराब होती जा रही है क्योंकि पिछले हफ्ते तालिबान के नियंत्रण में आने के बाद से लोग देश छोड़ने की जल्दी में हैं। 15 अगस्त को राष्ट्रपति अशरफ गनी के देश छोड़ने के तुरंत बाद देश की सरकार गिर गई थी।