Bengal Politics: पार्थ चटर्जी ने कहा- अर्थव्यवस्था पर केंद्र के साथ विचार नहीं मिलते, हमारा जोर मांग बढ़ाने पर

अर्थव्यवस्था के पुनरुद्धार से संबंधित विषयों पर केंद्र के साथ बंगाल सरकार के मतभेद स्वीकार करते हुए प्रदेश के उद्योग मंत्री पार्थ चटर्जी ने कहा कि तृणमूल कांग्रेस सरकार मांग बढ़ाने तथा लोगों की क्रय क्षमता बढ़ाने पर ध्यान दे रही है। विधानसभा में बजट पर चर्चा में भाग लेते हुए चटर्जी ने कहा कि केंद्र की भाजपा नीत राजग सरकार आपूर्ति बढ़ाने पर जोर दे रही है, वहीं राज्य सरकार मांग पैदा करने के पक्ष में है जिससे जनता का कल्याण होगा।

उन्होंने कहा, ‘‘अगर मांग होगी तो आपूर्ति भी होगी। हमारा कहना है कि जनता की क्रय शक्ति बढ़ाने से राज्य का समग्र विकास होगा तथा वह कल्याणकारी राज्य बनेगा।’’ चटर्जी ने बुधवार को विधानसभा में वित्त वर्ष 2021-22 के लिए बजट प्रस्तुत किया। वित्त मंत्री अमित मित्रा के अस्वस्थ होने की वजह से चटर्जी ने बजट पेश किया।बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने वित्तीय वर्ष 2021-22 के लिए राज्य के बजट को लोगों का हित करने वाला बताया और दावा किया कि बजट में किये गए आवंटन में चुनाव में किये गए सारे वादे पूरे किये गए हैं।

वहीं, भाजपा ने कहा कि बजट दिशाहीन और झूठ से भरा हुआ है। बंगाल की तृणमूल कांग्रेस सरकार ने 3.08 लाख करोड़ का बजट पेश करते हुए यात्री परिवहन वाहनों पर सड़क कर में छूट दे दी है और स्टाम्प ड्यूटी में कटौती कर दी है।

बजट के बाद हुई प्रेस वार्ता में तृणमूल अध्यक्ष बनर्जी ने कहा, “कई वित्तीय कठिनाइयों के बावजूद, हम लोगों का हित करने वाला बजट लेकर आए हैं। हमने समाज के सभी वर्गों के लिए जिन लोक कल्याणकारी योजनाओं का वादा किया था उनके लिए आवंटन किये हैं या धनराशि बढ़ा दी है।” बजट पर प्रतिक्रिया देते हुए नेता प्रतिपक्ष और भाजपा के सदस्य सुवेंदु अधिकारी ने कहा, “पिछले सालों की तरह इस साल भी राज्य सरकार ऐसा बजट लेकर आई है जो न केवल दिशाहीन है बल्कि झूठ से भरा हुआ है। पिछले 10 साल में राज्य में कोई बड़ा निवेश नहीं हुआ है।”