West Bengal: अब कोलकाता पुलिस मुख्यालय में बैठकर थाना के मालखाना में रखे सामान की होगी निगरानी


लालगढ़ थाना के मालखाना से जब्त हथियार अचानक गायब हो गए थे। कोलकाता पुलिस के क्षेत्र में ऐसी की कोई शिकायत नहीं है। हालांकि भविष्य में मालखाना से कोई रुपये अथवा सामान गायब न हो और न ही कोई अनियममितता घटे, इसे लेकर लालबाजार की ओर से विशेष कमद उठाए जा रहे हैं। अब कोलकाता पुलिस मुख्यालय लालबाजार में बैठ कर पुलिस कमिश्नर सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारियों को यह आसानी से पता चल जाएगा कि कौन से थाने के मालखाना में क्या सामान रखा हुआ है।

यही नहीं कौन से मामले में क्या सामान जब्त करके मालखाना में रखा गया है, इन सभी की वर्तमान में क्या अवस्था है। इसकी जानकारी भी लग जाएगी। सूत्रों के अनुसार आगामी एक महीने में कोलकाता पुलिस इस नई व्यवस्था को चालू करना चाह रही है।

नई व्यवस्था चालू करने से पहले सभी पुलिस स्टेशन के मालखाना के दायित्व वाले पुलिस कर्मियों को तीन दिनों का विशेष प्रशिक्षण दिया गया है। किसी भी मामले के सिलसिले में जब्त सामान या पुलिस द्वारा जब्त किए गए रुपये हथियार व अन्य सामान को थाना में रखा जाता है। जिस जगह पर सामानों को रखा जाता है उसे ही मालखाना कहते हैं। मालखाना का दायित्व एक पुलिस कर्मी के पास रहता है। कई थानों में अभी लाखों रुपये नकद और अन्य सामान जमा पड़े हैं। इन सबके अलावा गैरजरूरी चीजों को हटाकर मालखाना को साफ करने का निर्देश पुलिस कमिश्नर ने हाल ही में सभी थाना प्रभारियों को दिया था।

मालखाना के सामानों पर लगेगा क्यूआर कोड

अब मालखाना को लेकर नए नियम लागू हो रहे हैं। अब पुलिस स्टेशन में जब्त सामानों को मालखाना में रखने से पहले उसपर एक क्यूआर कोड लगाया जाएगा। उस बार कोड एक सॉफ्टवेयर के जरिए अटैच किया जाएगा। उस सॉफ्टवेयर में यह जानकारी अपडेट की जाएगी कि उक्त सामान कौन से मामले में जब्त किया गया, जब्त सामान को लेकर अदालत का निर्देश सहित अन्य जानकारी रहेगी।

एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि बार कोड सिस्टम आने के बाद मालखाना से कोई भी सामान निकालना नामुमकीन हो जाएगा। पुलिस सूत्रों के अनुसार अदालत में चल रहे मामलों के अलावा और किसी भी मामले का सामान थाना में रखने से मना किया गया है। उन सामानों पर क्यूआर कोड लगाकर उसे लालबाजार से संयुक्त करने के लिए कहा गया है। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि पुलिस कमिश्नर चाहते हैं कि सभी थाना के मालखाना को अपटूडेट रखा जाए। इसलिए थाना के पुराने दस्तावेज को कहीं और न रखा जाए, इसलिए यह कदम उठाए जा रहे हैं। इसके अलावा पुलिस स्टेशन के बाहर पड़े बाइक व कार को उसके मालिक को सौंपने का निर्देश दिया गया है।