Bengal Politics: सुवेंदु अधिकारी ने कहा- बंगाल सरकार महामारी खरीद समिति की वर्ष 2020 की रिपोर्ट सार्वजनिक करे

बंगाल की तृणमूल कांग्रेस सरकार पर कोविड-19 महमारी प्रबंधन के मुद्दे पर हमला तेज करते हुए विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष सुवेंदु अधिकारी ने आरोप लगया है कि सरकार ने महामारी खरीद समिति की वर्ष 2020 की रिपोर्ट अबतक सार्वजनिक नहीं की है। हालांकि, तृणमूल कांग्रेस ने अधिकारी के इन आरोपों को पिछले साल से कोरोना वायरस के खिलाफ राज्य सरकार की लड़ाई के मुद्दे पर लोगों को भ्रमित करने की कोशिश करार दिया है।

भाजपा नेता ने ट्वीट किया कि सरकार के क्रियाकलापों में ‘पादर्शिता’ होनी चाहिए। ममता बनर्जी नीत राज्य सरकार ने पिछले साल कोरोना वायरस महामारी के बाद चिकित्सा उपकरणों की खरीद की जांच के लिए राज्य के तत्कालीन गृह सचिव अलापन बंद्योपाध्याय के नेतृत्व में तीन सदस्यीय समिति गठित की थी। अधिकारी ने ट्वीट किया, ‘‘सरकार को 2000 करोड़ रुपये के महामारी खरीद घोटाले की समिति की रिपोर्ट सार्वजनिक करनी चाहिए। क्यों जांच रिपोर्ट छिपाई जा रही है जिसकी जांच ममता बनर्जी द्वारा निर्देशित थी? मुख्य सलाहकार और पूर्व मुख्य सचिव अलापन बंद्योपाध्याय समिति के अध्यक्ष थे। जवाबदेही और पारदर्शिता के लिए इसे तुंरत सार्वजनिक किया जाना चाहिए।’’

अधिकारी के ट्वीट का जवाब देते हुए तृणमूल कांग्रेस प्रवक्ता और राज्य पार्टी महासचिव कुणाल घोष ने कहा, ‘‘वह जानबूझकर मुख्यमंत्री की कोविड-19 महामारी के खिलाफ लड़ाई में भ्रम की स्थिति पैदा करना चाहते हैं और जनता को भ्रमित करना चाहते हैं।’’

उल्लेखनीय है कि राजधानी कोलकाता में एक फर्जी वैक्सीनेशन कैंप के खुलासे और एक फर्जी आइएएस अधिकारी की गिरफ्तारी के बाद से भाजपा ममता सरकार पर लगातार हमलावर है। विधानसभा में विपक्ष के नेता और भाजपा विधायक सुवेंदु अधिकारी ने कोलकाता वैक्सीन फर्जीवाड़ा मामले पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन को शनिवार को चिट्ठी भी लिखी है। इसमें मामले की जांच केंद्रीय एजेंसियों से कराए जाने की मांग की है। सुवेंदु ने यह भी चेतावनी दी थी कि विधानसभा के आगामी सत्र में वह इस मुद्दे को उठाएंगे।