मोदी सरकार के 7 साल पूरा होने पर नहीं होगा कोई कार्यक्रम, अनाथ बच्चों के लिए लागू होगी योजना

30 मई को केंद्र सरकार की सातवीं वर्षगांठ है। इस बार भारतीय जनता पार्टी कोई कार्यक्रम आयोजित नहीं करने वाली है। सातवीं वर्षगांठ के बार जानकारी देते हुए भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि कोरोना महामारी के चलते इस बार पार्टी द्वारा कोई कार्यक्रम आयोजित नहीं किया जाएगा। सभी भाजपा शासित राज्यों में पार्टी उन बच्चों के लिए बड़े पैमाने पर एक योजना लागू करने जा रही है, जिन्होंने कोरोना के कारण अपने माता-पिता को खो दिया है और वो अनाथ हो गए हैं।

बता दें कि केंद्र सरकार की ओर से इस बाबत पहले ही सभी भाजपा शासित राज्यों को एडवायजरी जारी की जा चुकी है। उसके बाद उत्तर प्रदेश व मध्य प्रदेश समेत भाजपा के कुछ राज्यों ने कदम भी उठा लिए हैं। केंद्र ने भाजपा शासित राज्यों से कहा था कि ऐसे बच्चों के पुनर्वास की व्यवस्था करें जो कोरोना काल मे अनाथ हो गए हों या फिर ऐसे बच्चे जिसके माता-पिता दोनों अस्पताल में हैं उनकी देखरेख करें। वहीं, उत्तर प्रदेश समेत अन्य भाजपा शासित प्रदेश की सरकारों की ओर से अगले सप्ताह यानी 30 मई को इस बाबत पूरी विस्तृत नीति सार्वजनिक की जाएगी।

मध्य प्रदेश सरकार दे रही है एक लाख रूपये अनुग्रह राशि

वहीं, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एलान किया है कि कोरोना की दूसरी लहर में जिस परिवार में मृत्यु हुई है, उस परिवार को राज्य सरकार की तरफ से एक लाख रूपये की अनुग्रह राशि दी जाएगी।

गौरतलब है कि कोरोना के चलते सभी वर्गों के लोगों पर असर पड़ा है। महामारी के चलते महिलाओं, वरिष्ठ नागरिकों, एससी-एसटी और विशेष तौर अनाथ हुए बच्चों सहित कमजोर वर्गों की सुरक्षा के लिए तत्काल कदम उठाने हेतु एडवाइजरी जारी की गई है। गृह मंत्रालय ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को इस संदर्भ में गाइडलाइन जारी की हैं। इसके माध्यम से कोरोना महामारी में लोगों को ज्यादा से ज्यादा लाभ मिल सके।