बंगाल में निजी अस्पतालों में 60 फीसद बेड कोरोना रोगियों के लिए रखना होगा आरक्षित, कमीशन ने जारी की एडवाइजरी

बंगाल में कोरोना रोगियों की संख्या लगातार बढ़ रही है। कई लोगों की ओर से शिकायतें की जा रही है कि सरकारी व निजी अस्पतालों में बेड खाली नहीं हैं, ऐसे में बगैर इलाज के ही कुछ लोगों की मौत हो जा रही है। इसके मद्देनजर राज्य सरकार ने सरकारी व निजी अस्पतालों में पहले ही बेडों की संख्या बढ़ाने का निर्देश दिया है। इस बीच वेस्ट बंगाल क्लीनिकल इस्टैब्लिशमेंट रेगुलेटरी कमीशन ने बड़ा कदम उठाते हुए शनिवार को निजी अस्पतालों के लिए एक एडवाइजरी जारी की है।

इसमें निजी अस्पतालों को कोविड मरीजों के लिए 60 फीसद बेड आरक्षित रखने के लिए कहा गया है। एडवाइजरी के अनुसार, निजी अस्पतालों में 60 फीसद बेड कोविड मरीजों के लिए जबकि 40 बेड गंभीर रूप से बीमार सामान्य रोगियों के लिए आरक्षित रखने को कहा गया है। हालांकि हेल्थ कमीशन की यह एडवाइजरी राज्य सरकार द्वारा कोरोना के इलाज के लिए आरक्षित निजी अस्पतालों में लागू नहीं होगी। 

कोविड पॉजिटिव रिपोर्ट दिखाने के बाद ही दवा दुकानों पर मिलेगा ऑक्सीजन 

इधर, देशभर में ऑक्सीजन की कमी को लेकर मचे हाहाकार के बीच बंगाल सरकार ने एक बड़ा फैसला लिया है। इसके तहत अब कोविड पॉजिटिव रिपोर्ट दिखाने पर ही दवा दुकानों से ऑक्सीजन की खरीदारी कर सकेंगे। पहले डॉक्टर का प्रिस्क्रिप्शन दिखाने पर भी ऑक्सीजन मिल जाता था, लेकिन अब बिना पॉजिटिव रिपोर्ट के यह नहीं मिलेगा। ऑक्सीजन की कालाबाजारी रोकने एवं बेवजह इसकी खरीदारी कर घर में रखने की मची होड़ पर रोक लगाने के लिए राज्य सरकार ने यह निर्णय लिया है। 

कोविड पॉजिटिव रिपोर्ट दिखाने के बाद ही दवा दुकानों पर मिलेगा ऑक्सीजन 

इधर, देशभर में ऑक्सीजन की कमी को लेकर मचे हाहाकार के बीच बंगाल सरकार ने एक बड़ा फैसला लिया है। इसके तहत अब कोविड पॉजिटिव रिपोर्ट दिखाने पर ही दवा दुकानों से ऑक्सीजन की खरीदारी कर सकेंगे। पहले डॉक्टर का प्रिस्क्रिप्शन दिखाने पर भी ऑक्सीजन मिल जाता था, लेकिन अब बिना पॉजिटिव रिपोर्ट के यह नहीं मिलेगा। ऑक्सीजन की कालाबाजारी रोकने एवं बेवजह इसकी खरीदारी कर घर में रखने की मची होड़ पर रोक लगाने के लिए राज्य सरकार ने यह निर्णय लिया है। 

डॉ आर अहमद अस्पताल में जल्द शुरू होगा कोविड का इलाज 

इधर, महानगर के डॉ आर अहमद डेंटल मेडिकल कॉलेज के न्यू कैंपस में जल्द ही कोविड अस्पताल शुरू किया जायेगा। यहां 112 बेड की व्यवस्था रखी जायेगी, जिसमें से 80 जनरल व 32 बेड एचडीयू वार्ड के लिए आरक्षित रखे जाएंगे। एनआरएस मेडिकल कॉलेज के चिकित्सक यहां कोविड संक्रमित मरीज की चिकित्सा करेंगे। गौरतलब है कि डेंटल मेडिकल कॉलेज में पिछले साल ही कोविड अस्पताल खोले जाने की योजना बनाई गई थी। पर संक्रमण के मामले कम होते देख यहां कोविड अस्पताल को नहीं खोला गया था। पर अब एक बार फिर से तैयारी शुरू कर दी गई है।