भारत-पाकिस्तान सिंधु आयुक्तों के बीच दूसरे दौर की बातचीत शुरू, कई अहम मुद्दों पर चर्चा

भारत और पाकिस्तान के सिंधु आयोग के आयुक्तों की दो दिवसीय बैठक का आज दूसरा दिन है। इस वार्षिक बैठक की शुरुआत मंगलवार को नई दिल्ली में हुई थी। दोनों देशों के सिंधु आयुक्तों के बीच लगभग ढाई साल बाद यह बातचीत हो रही है। सोमवार को पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंडल भारत पहुंचा था। सिंधु आयोग की पिछली बैठक 2018 में लाहौर में हुई थी।

मंगलवार को हुई बैठक के दौरान पाकिस्तान ने चेनाब नदी पर भारत की ओर से बनाए जा रहे हाइड्रो पॉवर प्रोजेक्ट की डिजाइन को लेकर आपत्ति जताई। इस दौरान भारत ने स्पष्ट कर दिया है कि वह इस संधि के तहत अपने अधिकारों का संपूर्ण उपयोग करता रहेगा।

भारत की तरफ से इस बैठक में शामिल हुए भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व पीके सक्सेना कर रहे हैं। इस बैठक में केंद्रीय जल आयोग, केंद्रीय बिजली प्राधिकरण एवं राष्ट्रीय जल विद्युत ऊर्जा निगम के सलाहकार भी शामिल हैं। वहीं, पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व सैयद मुहम्मद मेहर अली शाह कर रहे हैं।

बता दें कि भारत और पाकिस्तान के बीच साल 1960 में सिंधु जल समझौता हुआ था। इसके तहत सतलुज ब्यास एवं रावी नदी का पानी भारत को मिला जबकि सिंधु, झेलम एवं चेनाब का पानी पाकिस्तान को मिला।