दुबहल में प्राइवेट गार्ड का झाड़ी से मिला शव,आक्रोशित लोगों ने घंटो किया सड़क जाम


-सिटी एसपी व सदर एसडीओ के समझाने पर माने लोग, लोगो ने थानाध्यक्ष पर लापरवाही का लगाया आरोप

-मेडिकल थाना क्षेत्र के दुबहल इलाके के रहने वाले थें भोला सिंह 

-रविवार की शाम घर से निकले थे सुबह मिली लाश

युवा शक्ति संवादाता

----------------------

गया। मगध मेडिकल थाना क्षेत्र के दुबहल में एक प्राइवेट गार्ड की सोमवार की सुबह झांड़ियो में शव मिला।शव मिलने के बाद इलाके में सनसनी फैल गयी।मृतक धंनजय सिंह उर्फ भोला सिंह रविवार की शाम से ही घर से निकले थें। जब देर रात तक वह घर नही लौटे तो घरवालों ने खोजबीन शुरू कर दी। इसके लिए वह मगध मेडिकल थाना भी गये। वही सुबह भोला सिंह की लाश मिली। लाश मिलने की सुचना के बाद पुलिस जांच को पहुंची। वही आक्रोशित लोगों ने गया डोभी मार्ग को जाम कर दिया।

आक्रोशित लोगों ने घंटो किया सड़क जाम

शव मिलने के बाद लोग आक्रोशित  हो गये। लोगो का कहना था कि वह रात में ही मेडिकल थाना गये थें। लेकिन वहां थानाध्यक्ष ने यह कहकर चला दिया कि अपने स्तर से खोजबीन करे नही मिलने पर सुबह जांच पड़ताल की जायेगी। लोगो का गुस्साा था कि अगर पुलिस तत्परता दिखाती तो यह घटना नही घटती। मृतक आज जीवित होते और उनके साथ मारपीट करने वाले लोग भी पकड़े जाते। 

जांच के लिए बुलाया गया खोजी कुत्ता

डीएसपी विधि व्यवस्था संजीत प्रभात ने बताया कि जहां मृतक का शव मिला वहां एक चप्पल  भी मिला है। ऐसे में लोग खोजी कुत्ता बुलाने की मांग कर रहे थें। खोजी कुत्ता को बुलाया गया लेकिन उससे फायदा नही मिल पाया। उन्होने बताया कि अभी तक हत्या के स्पष्ट कारण नही पता चल पाया है। लोगो द्वारा बताया गया कि वह रविवार की शाम अपने दोस्त अखिलेश यादव के घर गये थें। जहां से वह शाम आठ बजे निकल गये थें।  वही सुबह उसकी लाश मिलती है। शव को देखने से लगता है कि तेज धारदार हथियार से उनपर बार कर हत्या की गयी  है।

 सिटी एसपी व सदर एसडीओ के समझाने के बाद हटा जाम

आक्रोशित लोगों द्वारा एयर पोर्ट के पास गया-डोभी मार्ग जाम कर दिया गया। जो करीब चार घंटे तक रहा। इस दौरान दोनो ओर गाड़ियों की लम्बी कतार लग गयी। मौके पर सिटी एसपी राकेश कुमार व सदर एसडीओ इन्द्रवीर कुमार पहुंच लोगोे को समझाया लेकन लोग सुनने को तैयार नही थें। लोग पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगा रहे थे। इस बात पर सिटी एसपी ने डीएसपी विधि व्यवस्था को लोगो द्वारा मगध मेडिकल थाना की पुलिस पर लगाये गये लापरवाही के मामले में जांच कर प्रतिवेदन देने की बात कही। वही सदर एसडीओ ने मुख्यमंत्री पारिवारिक लाभ योजना की तहत 20 हजार की राशि बीडीओ को देने की बात कही। इसके बाद लोगोें ने जाम हटाया और शव को पोस्टमार्टम के लिए मगध मेडिकल कॉलेज भेजा गया