पूजा से पहले धनबाद से दिल्ली के लिए एक और प्रीमियम ट्रेन, 12 से चलेगी सियालदह-नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस

सियालह से नई दिल्ली के बीच सफर करने वाले यात्रियों के लिए अच्छी खबर है। लॉकडाउन के कारण बंद एक और प्रीमियम ट्रेन पटरी पर उतरने जा रही है। 12 अक्टूबर से सियालदह-नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस चलेगी। यह ट्रेन धनबाद होकर नई दिल्ली जाएगी। इस रूट पर हावड़ा-नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस पहले से ही चल रही थी। अब एक और प्रीमियम ट्रेन शुरू हो रही है। एक रात की यात्रा में लोग धनबाद से नई दिल्ली पहुंच जाएंगे। 

वापसी में 13 अक्टूबर से सियालदह राजधानी चलेगी 

सियालदह-नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस 12 अक्टूबर से चलेगी। वापसी में नई दिल्ली से सियालदह के लिए इस ट्रेन को 13 अक्टूबर से चलाया जाएगा। रेलवे बोर्ड की अनुमति के बाद पूर्व रेलवे ने मंगलवार को इसकी घोषणा कर दी। स्पेशल बनकर चलने वाली ट्रेन दोनों ओर से अपने पुराने समय पर ही चलेगी। दूसरी ओर, 12 अक्टूबर से हावड़ा-नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस का आसनसोल और धनबाद में समय बदल जाएगा। आसनसोल में शाम 7:11 के बजाय सात बजे और धनबाद में रात 8:10 के बजाय 10 मिनट पहले यानी आठ बजे ही आ जाएगी। डाउन में आनेवाली राजधानी अपने पुराने टाइम टेबल के अनुसार ही चलेगी। रेलवे ने अभी इस ट्रेन को पूजा स्पेशल ट्रेन के तौर पर चलाने का निर्णय लिया है। 

आज से अप नंदनकानन और  डाउन शक्तिपुंज एक्सप्रेस

पुरी से आनंदविहार जानेवाली नंदनकानन एक्सप्रेस बुधवार से चलने लगेगी। डाउन में आनंदविहार से पुरी के लिए इसे 10 अक्टूबर से चलाया जाएगा। इसके साथ ही पूरे 200 दिनों के बाद जबलपुर-हावड़ा शक्तिपुंज एक्सप्रेस भी बुधवार से चलेगी। अप में हावड़ा -जबलपुर शक्तिपुंज एक्सप्रेस नौ अक्टूबर से चलेगी। इसी दिन से पुरी-आनंदविहार नीलांचल एक्सप्रेस भी दोनों ओर से शुरू हो जाएगी। इन ट्रेनों के लिए टिकट बुकिंग तीन अक्टूबर से ही शुरू हो गई थी। अक्टूबर-नवंबर में दुर्गापूजा, दिवाली और छठ की वजह से इन ट्रेनों में अब कंफर्म सीट मिलना मुश्किल है।

गोमो में होगा ठहराव 

नंदनकानन एक्सप्रेस का ठहराव गोमो में भी होगा। नीलांचल एक्सप्रेस गोमो और बोकारो दोनों स्टेशन पर रुकेगी। इन दोनों ट्रेनों को पहले की तरह ही चलाया जाएगा। टाइम टेबल में भी कोई बदलाव नहीं किया गया है। दूसरी ओर, धनबाद से खुलने वाली गंगा-दामोदर एक्सप्रेस के तीनों रैक तैयार कर लिए गए हैं। अलेप्पी एक्सप्रेस के छह रैक के मेंटेनेंस का काम भी अंतिम चरण में है। अधिकारियों का कहना है कि रेलवे बोर्ड से आदेश जारी होते ही ट्रेनें चलने लगेंगी। 


ADVERTISEMENT