सउदी अरब के नोट में गलत मानचित्र पर भारत ने जताया कड़ा ऐतराज


सऊदी अरब के नेशनल बैंक की तरफ से जारी 20 रियाल के नोट में जम्मू और कश्मीर को भारतीय नक्शे में नहीं दिखाए जाने पर भारत ने कड़ा ऐतराज जताया है। भारत ने सऊदी अरब से कहा है कि वह इस संदर्भ में जो भी गलती हुई है उसे जल्द से जल्द दूर करे।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा है कि, ''हमने देखा है कि संबंधित नोट में भारत की सीमाओं का गलत चित्रण किया गया है। हमने नई दिल्ली स्थित सऊदी दूतावास और रियाद स्थित भारतीय दूतावास के जरिए अपनी गंभीर चिंताओं से सऊदी सरकार को अवगत करा दिया है। हमने सऊदी अरब सरकार से कहा है कि वह इस खामी को जल्द से जल्द दूर करे। हम यह बताना चाहते हैं कि जम्मू और कश्मीर और लद्दाख भारत का अभिन्न हिस्सा है।''

सऊदी अरब की मुद्रा जारी करने वाले प्राधिकरण ने 24 अक्टूबर, 2020 को 20 रियाल का एक नोट जारी किया था। उल्लेखनीय तथ्य यह है कि अगले महीने सऊदी अरब में आयोजित हो रहे समूह-20 देशों के उपलक्ष्य में इस नोट को जारी किया गया है जिसमें पूरी दुनिया का मानचित्र शामिल किया गया है।

इस मानचित्र को लेकर पाकिस्तान के मीडिया में भी काफी शोर मचा हुआ है क्योंकि इसमें गिलगिट बाल्टिस्तान व गुलाम कश्मीर के हिस्से को पाकिस्तान में नहीं दिखाया गया है। इस तरह से समूचे जम्मू व कश्मीर को एक स्वतंत्र देश के तौर पर दिखाया गया है।


सनद रहे कि पाकिस्तान सरकार ने 05 अगस्त, 2020 को अपना नया नक्शा जारी किया है जिसमें समूचे जम्मू व कश्मीर व लद्दाख के कुछ हिस्से को शामिल किया गया है। बहरहाल, सूत्रों का कहना है कि नोट के मानचित्र को लेकर ऐतराज के बावजूद भारत व सऊदी अरब के रिश्तों पर कोई विपरीत असर पड़ने की संभावना नहीं है। दोनो पक्ष आपसी समझ बूझ से इसे दूर कर लेंगे।


ADVERTISEMENT