Bihar School Reopens Guidelines: बिहार में आज नौवीं से 12वीं के लिए खुल गए स्कूल, अभिभावकों की सहमति से ही जाएंगे बच्‍चे


बिहार सरकार के निर्देश पर 28 सितंबर, सोमवार से राज्य के अधिकांश सरकारी एवं निजी विद्यालय (Government and Private School) खुल गए हैं। नौवीं से 12वीं तक के विद्यार्थी स्कूल जाकर शिक्षकों से मार्गदर्शन प्राप्त कर सकते हैं। इसके लिए अभिभावक (Parents/ Guradian)  की सहमति (Consent)  जरूरी है। स्कूल बच्चों को आने के लिए बाध्य नहीं करेंगे। नियमित कक्षाओं का संचालन अभी बंद रहेगा। केवल इच्छुक बच्चे अभिभावक की सहमति से स्कूल जाकर शिक्षक से मिलकर पढ़ाई संबंधी समस्या का समाधान कर सकेंगे। वैसे निजी स्कूलों के आंतरिक सर्वे में अधिसंख्य अभिभावकों ने बच्चों को स्कूल भेजने से इनकार कर दिया है।

स्कूलों को किया गया सैनिटाइज :

पटना के जिला कार्यक्रम अधिकारी मनोज कुमार का कहना है कि सोमवार से सरकारी एवं निजी स्कूलों को खोलने की अनुमति दी गई है। फिलहाल स्कूलों में 50 फीसद शिक्षक उपस्थित रहेंगे। अगर किसी बच्चे को परेशानी है तो शिक्षक उसकी समस्या को दूर करेंगे। पहले की तरह क्लास अभी नहीं चलेगी। स्कूल आने वाले बच्चों को कोरोना संक्रमण रोकने के लिए बनाए नियमों को पालन करना होगा। अपने वाहन से आना होगा। स्कूल की ओर से वाहन नहीं चलाया जाएगा। मास्क लगाकर आने वाले बच्चे को ही स्कूल में प्रवेश दिया जाएगा। सभी स्कूलों को सैनिटाइज कर लिया गया है। सैनिटाइजर की व्यवस्था की गई है।

कुछ स्कूल फिलहाल रहेंगे बंद

सीबीएसई के सिटी कोऑर्डिनेटर डॉ. राजीव रंजन प्रसाद का कहना है कि सरकार की अनुमति से अधिकांश प्राइवेट स्कूल खुल जाएंगे। 50 फीसद शिक्षकों को आने को कहा गया है। हालांकि राजधानी के अधिकांश मिशन स्कूल, डॉन बास्को एवं डीएवी शास्त्रीनगर स्कूल फिलहाल बंद रहेगा। वहीं राजधानी के केंद्रीय विद्यालय के साथ-साथ बाल्डविन एकेडमी, बीडी पब्लिक स्कूल एवं एसवीएम सहित कई स्कूल खुल जाएंगे। 

10 बजे से मैट्रिक एवं एक बजे से इंटर के बच्चे आएंगे

शास्त्रीनगर बालक हाईस्कूल के प्राचार्य श्रीकांत शर्मा का कहना है कि स्कूलों में भीड़ न हो इसका ध्यान रखते हुए मैट्रिक के छात्रों को सुबह 10 बजे से एवं इंटर के बच्चों को एक बजे के बाद बुलाया गया है। एक कमरे में 10 से अधिक बच्चों को बैठने की अनुमति नहीं होगी। स्कूल में शारीरिक दूरी का हर संभव ख्याल रखा जाएगा। डीएवी शास्त्रीनगर के प्राचार्य डॉ.विष्णु ओझा का कहना है कि वर्तमान में स्कूल में कंपार्टमेंटल परीक्षा चल रही है। ऐसे में बच्चों को स्कूल बुलाना सही नहीं है। 


ADVERTISEMENT