पश्चिम बंगाल में अब कोरोना संक्रमित मरीज की मौत के बाद परिजन को सौंपा जाएगा शव

पश्चिम बंगाल में अब Covid-19 संक्रमित शख्स की मौत के बाद उसके शव को अंतिम संस्कार के लिए परिजन को सौंपा जा सकेगा। कलकत्ता हाई कोर्ट के निर्देश पर राज्य सरकार ने ऐसा करने का फैसला किया है। इसके साथ ही अंतिम संस्कार के लिए परिवार के 6 सदस्यों को श्मशान या कब्रिस्तान में ले जाने की अनुमति भी मिल गई है।

हाई कोर्ट ने 16 सितंबर को कहा कि कोविड मरीजों को अंतिम संस्कार की अनुमति मिलनी चाहिए क्योंकि यह उनका मौलिक अधिकार है। साथ ही यह भी स्पष्ट किया कि कोरोना प्रोटोकॉल का भी कड़ाई से पालन होना चाहिए। राज्य की अपील पर हाई कोर्ट ने 21 सितंबर को आदेश में संशोधन कर लिया, जिसके अनुसार प्राधिकरण के निर्देशित स्थान पर परिवार के केवल 6 सदस्यों को ही अंतिम संस्कार में शामिल होने की इजाजत होगी।

हॉस्पिटल से सीधे श्मशान जाएगा शव

राज्य सरकार ने आदेश के बारे में स्पष्ट करते हुए कहा कि डेडबॉडी सीधे हॉस्पिटल से श्मशान/कब्रिस्तान ही जाएगी। कहीं और नहीं ले जा सकते, यहां तक कि घर पर भी नहीं। साथ में पैरंट्स, पति-पत्नी, बच्चे शामिल हो सकते हैं और सभी परिजन को अलग गाड़ी में जाना होगा। शव को अधिकारियों की अप्रूव गाड़ी में ले जाया जा सकेगा, जिसकी सूची वेबसाइट पर मौजूद होगी।

बैग में कवर करनी होगी डेडबॉडी

परिजन को सौंपे जाने से पहले शव को बैग में कवर करना होगा, जिसमें चेहरे का हिस्सा ट्रांसपैरंट होगा। परिजन के लिए मास्क और ग्लव्स पहनना आवश्यक होगा। पीपीई किट भी पहन सकते हैं। गाड़ी की भी सफाई और सैनिटाइजेश न आवश्यक है। यह सारी प्रक्रिया तब होगी, जब मरीज की मौत सरकारी हॉस्पिटल में हो और परिवार KMC हेल्थ डिपार्टमेंट में संपर्क करे। अगर मरीज की मौत निजी हॉस्पिटल में होती है तो KMC को निजी एजेंसियों को सूचित करना होगा।

राज्य में अब तक कोरोना से 4837 मौत

पश्चिम बंगाल में सोमवार को कोरोना वायरस से 3,155 और लोग संक्रमित पाए गए तथा 56 और लोगों की मौत हो गई। स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, राज्य में कोविड-19 के कुल मामले 2,50,580 हो गए हैं जबकि मृतक संख्या 4,837 पहुंच गई है। राज्य में मरीजों के ठीक होने की दर 87.73 प्रतिशत तक पहुंच गई है। राज्य में कोविड-19 के 25,899 मरीजों का इलाज चल रहा है।


ADVERTISEMENT