West Bengal :कोरोना के बढ़ते मामले के बीच अब निजी अस्पतालों में बेड बढ़ाने पर ममता सरकार का जोर


बंगाल में हर दिन रिकॉर्ड संख्या में बढ़ रहे कोरोना के नए मामले को देखते हुए ममता सरकार अब निजी अस्पतालों में बेडों की संख्या बढ़ाने पर जोर दे रही है। राज्य स्वास्थ्य विभाग के निर्देश पर कोविड-19 रोगियों के इलाज के लिए कोलकाता के आमरी अस्पताल सहित हावड़ा में नारायणा व संजीबन अस्पताल में बेडों की संख्या को बढ़ा दिया गया है।

जानकारी के मुताबिक हावड़ा के उलबेरिया स्थित संजीबन अस्पताल में बेडों की संख्या 300 से बढ़ाकर 500 कर दिया गया है। वहीं, नारायणा अस्पताल की पुरानी इमारत में अब 100 बेड की सुविधा के साथ यह पूरी तरह लेवल-4 कोविड अस्पताल के रूप में कार्य करेगा।दरअसल, हावड़ा में बड़ी संख्या में नए मामले आ रहे हैं और संक्रमण के मामले में कोलकाता व उत्तर 24 परगना के बाद यह जिला तीसरे नंबर पर है। शुक्रवार तक हावड़ा में 3695 मामले सामने आ चुके हैं जिनमें 1047 सक्रिय (एक्टिव केस) हैं।

इसी तरह बंगाल में कोरोना से दूसरा सबसे प्रभावित जिला उत्तर 24 परगना में बारासात स्थित मेगासिटी नर्सिंग होम को राज्य सरकार ने कोविड समर्पित अस्पताल के रूप में अधिसूचित किया। यहां 50 बेडों की व्यवस्था की गई है। इसी तरह झाड़ग्राम जिले में इस्लामपुर उर्दू अकादमी को कोरोना रोगियों के इलाज के लिए कोविड अस्पताल के रूप में अधिसूचित किया गया है। यहां बेडों की संख्या 100 है। बता दें कि राज्य में इस समय 33 निजी अस्पतालों एवं 80 सरकारी अस्पतालों में कोविड-19 के इलाज की सुविधा है।

सरकारी अस्पतालों की तुलना में निजी अस्पतालों में कोरोना के इलाज के लिए अभी भी बहुत कम बेडों की व्यवस्था की गई है। इसके कारण अधिकतर निजी अस्पतालों में बेड लगभग फुल है। वहीं, सरकारी अस्पतालों में बड़ी संख्या में बेड खाली हैं। शनिवार के आंकड़े के अनुसार, सरकारी अस्पतालों में कुल 10840 बेड हैं जबकि निजी अस्पतालों में यह संख्या 1543 है। निजी अस्पतालों में 4 दिन पहले कोरोना रोगियों के इलाज के लिए बेडों की संख्या 1216 थी जो अब बढ़कर 1543 हुई है। हालांकि जिस रफ्तार से मामले बढ़ रहे हैं ऐसे में निजी अस्पतालों में पर्याप्त संख्या में बेडों को तत्काल बढ़ाने की आवश्यकता है। 

ADVERTISEMENT