मोहन बागान की विजयी गाथा को बनाया जाएगा स्कूली पाठ्यक्रम का हिस्सा


कोलकाता: पश्चिम बंगाल के शिक्षा विभाग ने स्थानीय फुटबॉल क्लब मोहन बागान की 1911 में एक ब्रिटिश टीम के खिलाफ जीत दर्ज करने की गाथा को स्कूल पाठ्यक्रम में शामिल करने का फैसला किया है।विभाग ने हालांकि अभी यह फैसला नहीं किया है कि इससे जुड़ा अध्याय किस कक्षा में पढ़ाया जाएगा। राज्य संचालित स्कूलों के पाठ्यक्रम और पाठ्य पुस्तकों से जुड़ी विशेषज्ञ समिति के अध्यक्ष अवीक मजूमदार ने कहा कि यह इतिहास की पुस्तक का हिस्सा होगा।मजूमदार ने पीटीआई-भाषा से कहा, ‘‘ हम फुटबॉल के 11 खिलाड़ियों की गौरवशाली उपलब्धि पर एक अध्याय शामिल करेंगे। उन्होंने भारतीयों में विश्वास पैदा किया कि अंग्रेजों को हराया जा सकता है। यह अध्याय हमारे खेल इतिहास और राष्ट्रवाद की भावना पर जागरूकता उत्पन्न करेगा।’’मोहन बागान ने 29 जुलाई 1911 को ईस्ट यार्कशर रेजीमेंट को हराकर मशहूर आईएफए शील्ड खिताब जीता था । मोहन बागान 2-1 से मिली जीत से टूर्नामेंट में ब्रिटिश दबदबे को खत्म करने वाला पहला भारतीय क्लब बना था।

ADVERTISEMENT