गडकरी बोले- पाकिस्तान को भारत के हिस्से का पानी रोकने का काम कर रहा केंद्र


केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने रविवार को कहा कि 'अखंड भारत' में तीन छह नदियों में से भारत के हिस्से का पानी पाकिस्तान में बह रहा है, जिसे अब केंद्र सरकार भारत के हिस्से का पानी वहां जाने से रोकने का काम कर रही है। उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर, पंजाब, राजस्थान, दिल्ली, उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश को यह पानी मिलेगा।

महाराष्ट्र के नागपुर से गुजरात भाजपा की डिजिटल 'जन सम्मान' रैली को संबोधित करते हुए, उन्होंने यह भी कहा कि भारत शांति और अहिंसा में विश्वास करता है और विस्तारवादी बनकर मजबूत नहीं होना चाहता।

गडकरी ने कहा, 'अखण्ड भारत में छह नदियां थीं (भारत और पाकिस्तान दोनों से होकर गुजरती हैं। विभाजन के अनुसार, तीन नदियों का पानी पाकिस्तान के लिए आरक्षित था, जबकि अन्य तीन नदियों के पानी का उपयोग भारत को करना था। लेकिन हमारे हिस्से का पानी भी पाकिस्तान में बह रहा है।'

उन्होंने कहा कि पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश पहले इस मुद्दे पर एक साथ नहीं आ रहे थे।

उन्होंने कहा कि 1970 के बाद पहली बार, हमने हमारे पूर्व जेएंडके गवर्नर सत्य पाल मलिक और पंजाब कांग्रेस के सीएम (अमरिंदर सिंह) से संधि पर हस्ताक्षर करने के लिए कहा। हम पानी को पाकिस्तान में बहने से रोकने के लिए काम कर रहे हैं। अब कश्मीर, पंजाब, राजस्थान, दिल्ली, उत्तराखंड और हिमाचल को यह पानी मिलेगा। हमारी सरकार द्वारा इस निर्णय को लेने का साहस दिखाया जा रहा है। अन्यथा 1970 के बाद से ऐसा कुछ भी नहीं हुआ है।

नितिन बोले, 'नौ में से सात परियोजनाएं (नदियों के पानी के विभाजन से संबंधित) राज्यों के सीएम द्वारा मामले को सुलझाने के लिए एक साथ लाए जाने के बाद मंजूरी दे दी गई है।'

ADVERTISEMENT