पैंगोंग त्सो-गलवान घाटी के बाद DBO इलाके में चीन का अड़ंगा, भारतीय पेट्रोलिंग रोकी


भारत की तमाम कोशिशों के बावजूद सीमा पर चीन अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है. वह सीमा पर लगातार भारत से भिड़ रहा है. चीन ने पैंगोंग त्सो और गलवान घाटी के बाद अब दौलत बेग ओल्डी इलाके में भारतीय सेना की पेट्रोलिंग को ब्लॉक कर दिया है. वह दौलत बेग ओल्डी इलाके के पेट्रोलिंग प्वाइंट 10 से 13 के बीच अड़ंगा लगा रहा है.

चीन ने दौलत बेग ओल्डी इलाके और डेस्पांग सेक्टर के पास कैंप बना लिए हैं. दौलत बेग ओल्डी और डेस्पांग सेक्टर के पास चीन बेस में हलचल तेज हो गई है. सूत्रों के मुताबिक चीन बेस के पास कैंप और सड़क बनाई गई है. इसका खुला जून की सैटेलाइट तस्वीरों से हुआ है. वहीं, भारतीय सेना ने भी डेस्पांग इलाके में जवानों की तैनाती बढ़ा दी है.

सूत्रों ने आजतक को बताया कि काराकोरम दर्रा के पास के इलाके में चीन अतिक्रमण करना चाहता है. वह पाकिस्तान और यूरोप को जाने वाले अपने हाईवे के लिए रास्ता चाहता है, जो शेनझेन इलाके से होकर भारतीय क्षेत्र से गुजरता है. इसको लेकर चीन की मंशा साफ होती जा रही है.

उन्होंने बताया कि दौलत बेग ओल्डी सेक्टर में चीन की कोशिश भारत के लिए मुश्किल पैदा करने और पेट्रोलिंग को रोकने की है. सूत्रों ने यह भी बताया कि चीन ने अपने बेस के पास सड़क भी बना ली है, ताकि हैवी वाहनों और आर्टिलरी को एलएसी से सटे PP15, PP17 और PP17A के नजदीक आसानी से पहुंचा सके.

इससे पहले गलवान घाटी और पैंगोंग त्सो में भारत और चीन के बीच टकराव देखने को मिला था. गलवान घाटी में भारत और चीन की सेना के बीच हिंसक झड़प भी हुई थी, जिसमें भारतीय सेना के कर्नल संतोष बाबू समेत 20 जवान शहीद हो गए थे. बताया जा रहा है कि इस हिंसक झड़प में चीन के करीब 40 जवान मारे गए थे. हालांकि चीन ने अपने जवानों के मारे जाने का कोई आधिकारिक आंकड़ा जारी नहीं किया है.

ADVERTISEMENT