बिना परीक्षा कराए 10वीं-12वीं के रिजल्ट घोषित कर सकती है CBSE, ऐसे होगा मूल्यांकन


10वीं और 12वीं की परीक्षा कैंसिल करने के बाद सीबीएसई की ओर से रिजल्ट के ऐलान की नई योजना बनाई जा रही है. सूत्रों का कहना है कि सीबीएसई अब परीक्षा कराने के मूड में नहीं है. छात्रों के रिजल्ट घोषित करने के लिए सीबीएसई की ओर से नई स्कीम बनाई जाएगी और उस आधार पर मूल्यांकन करके रिजल्ट जारी किया जाएगा. बताया जा रहा है कि सीबीएसई 15 जुलाई तक रिजल्ट घोषित कर सकता है.

सीबीएसई के सूत्रों ने बताया कि 10वीं और 12वीं के छात्र जिन्होंने परीक्षा पूरी कर ली है, उनका सामान्य रूप से मूल्यांकन किया जाएगा. जिन छात्रों ने 3 से अधिक पेपर दिए हैं, शेष पेपर के लिए सर्वश्रेष्ठ 3 विषयों के औसत से नंबर को जोड़ा जाएगा. जिन लोगों ने 3 पेपर दिए हैं, शेष परीक्षाओं के लिए सर्वश्रेष्ठ 2 विषयों के औसत से नंबरों को जोड़ा जाएगा.

इसी तरह जिन छात्रों ने 1 या 2 पेपर दिए हैं, उनके रिजल्ट बोर्ड परफॉर्मेंस और इंटर्नल प्रोजेक्ट असेसमेंट पर होंगे. सीबीएसई की ओर से 15 जुलाई तक रिजल्ट घोषित किए जाएंगे. 12वीं क्लास के बच्चों के लिए वैकल्पिक बोर्ड परीक्षा में बैठने की व्यवस्था की जाएगी, ताकि वह अपना परफॉर्मेंस सुधार लें.

सीबीएसई का कहना है कि स्थिति अनुकूल होने पर ही वैकल्पिक बोर्ड परीक्षा आयोजित की जाएगी. इसके साथ ही सरकार दिल्ली यूनिवर्सिटी को आवेदन की समय सीमा (4 जुलाई) तक बढ़ाने के लिए कह सकती है, क्योंकि सीबीएसई छात्रों का रिजल्ट देर से घोषित किया जाएगा.

गौरतलब है कि कोरोना संकट के कारण सीबीएसई ने 1 से 15 जुलाई तक होने वाली परीक्षाएं निरस्त कर दीं. यह जानकारी बोर्ड ने गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान दी. इसके बाद कोर्ट ने केंद्र और सीबीएसई को 12वीं क्लास की परीक्षा को लेकर नया नोटिफिकेशन जारी करने को कहा है. इस मामले में आज भी सुनवाई होगी.

सीबीएसई और केंद्र से सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि नए नोटिफिकेशन में आंतरिक मूल्यांकन और परीक्षा के बीच विकल्प का स्पष्ट करें. साथ ही स्टेट बोर्ड एग्जाम की वर्तमान स्थिति, परीक्षाओं की तारीख के बारे में बताने को कहा है. कोर्ट ने आज सुबह तक सीबीएसई से नया नोटिफिकेशन और हलफनामा मांगा है.

ADVERTISEMENT