Coronavirus Effect: कोरोना तेजी से बढ़ने के कारण कोलकाता के निजी अस्पतालों में 185 नर्सों ने छोड़ी नौकरी


पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में हाल के दिनों में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ने के बाद यहां विभिन्न निजी अस्पतालों में नौकरी करने वालीं मणिपुर की कम से कम 185 नर्स इस्तीफा देकर अपने गृह राज्य के लिए रवाना हो गई हैं। 

एक निजी अस्पताल के वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि कोविड-19 महामारी के दौरान पहले से ही नर्सों की कमी है और ऐसे में इन नर्सों के चले जाने से दिक्कत बढ़ेगी। इस निजी अस्पताल की भी नौ नर्स नौकरी छोड़ कर जा चुकी हैं। इस्तीफा देने वाली एक नर्स ने फोन पर कहा, 'हमारे अभिभावक चिंतित हैं और यहां रोजाना मामले बढ़ने से हम भी काफी तनाव में हैं। हमारा राज्य एक हरित प्रदेश है और हम घर वापस जाना चाहते हैं। परिवार और माता-पिता हमारी प्राथमिकता है।' एक अन्य नर्स ने नाम नहीं बताने की शर्त पर कहा, 'अगर हम जीवित बचे, तो आगे भी नौकरी मिल जाएगी।'

वहीं दूसरी ओर बंगाल में पिछले 24 घंटे में कोरोना के फिर 84 नए मामले सामने आए हैं। इसके बाद राज्य में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर 2461 हो गया है जिनमें 1407 एक्टिव केस है। इसके साथ पिछले 24 घंटे में कोरोना से राज्य में 10 और लोगों की मौत हुई है, इसके बाद मरने वालों का आंकड़ा बढ़कर 153 हो गया है। राज्य स्वास्थ्य विभाग की ओर से शुक्रवार शाम जारी मेडिकल बुलेटिन में यह जानकारी दी गई है।

पिछले 24 घंटे में 61 मरीजों को स्वस्थ होने के बाद अस्पताल से छुट्टी भी दी गई है। इसके बाद ठीक होने वाले रोगियों की संख्या 829 हो गई है। स्वस्थ होने वालों की दर 33.69 फीसद है। वहीं, 153 लोगों की कोरोना से अबतक मौत हो चुकी है। इसके अलावा 72 अन्य लोग जो कोरोना संक्रमित थे लेकिन उनकी मौत दूसरी बीमारियों के कारण हुई है।

कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित कोलकाता में अबतक सर्वाधिक 1200 पॉजिटिव मामले सामने आ चुके हैैं और यहां 99 लोगों की मौत हो चुकी है। दूसरे नंबर पर हावड़ा से 536 पॉजिटिव मामले एवं उसके बाद उत्तर 24 परगना से 321 पॉजिटिव मामले सामने आए हैं।पिछले 24 घंटे में भी कोलकाता से सर्वाधिक 43 नए मामले व 5 मौत, हावड़ा से 27 नए मामले व 2 मौत एवं उत्तर 24 परगना से 4 नए मामले व तीन की मौत हुई है। 

ADVERTISEMENT