लॉक डाउन में भूखों का पेट भर रहीं संस्थाएं, संस्था के सदस्य जरूरतमंदों को ढूंढ कर दे रहे भोजन


युवा शक्ति टीम 
-
कोलकाता : कोरोना जैसी महामारी को हराने के लिए एक ओर जहां डॉक्टर तल्लीनता से लगे हुए हैं वहीं लॉक डाउन होने के बाद गरीब तबके के लोगों का पेट भरने के लिए कई सामाजिक संस्थाएं सक्रिय हैं। इनमें अवधूत देवी दास सेवा संस्थान के बैनर तले मानव सेवा दल एवं कोलकाता की प्राचीन संस्थाओं में से एक बड़ाबाजार युवक सभा के पदाधिकारी एवं सदस्य जरूरतमंदों की दिन- रात सेवा कर रहे हैं। इनकी तरफ से उन लोगों को पैकेटबंद भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है जिनके काम बंद हो गए हैं और परिवारजनों के सामने रोटी का संकट आ गया है। इन्होंने ऐसे जरूरतमंद परिवारों को भोजन मुहैया कराने का संकल्प लिया है। बड़ाबाजार युवक सभा के सह सचिव संजय कुमार भोतिका ने बताया कि जबतक लॉक डाउन रहेगा तब तक उनकी संस्था द्वारा जरूरतमंदों को भोजन दिया जाएगा। 

अभी तक 7000 से अधिक फूड पैकेट बांटे जा चुके हैं। भोजन में रोटी, सब्जी और मुढ़ी शामिल है। संस्था के सदस्य जरूरतमंद व्यक्ति को ढूंढ कर भोजन दे रहे हैं। बुधवार को काशीपुर इलाके में भोजन वितरित किया गया। जहां लोग महामारी से बचने के लिए घरों में बंद हैं वहीं उक्त संस्थाओं के सदस्य बेहिचक लोगों की सेवा कर रहे हैं। उन्होंने एनआरएस अस्पताल में भी जाकर भोजन वितरण किया। बड़ाबाजार युवक सभा के अध्यक्ष संजय गोयल, सचिव राजेश अग्रवाल, ट्रस्टी संतोष कुमार कुल्थिया, विजय पटवारी, शेखर अग्रवाल, अरूण अग्रवाल व विकास अग्रवाल (चीकू) सहित अन्य सभी सदस्य सेवा में जुटे हुए हैं।बड़ाबाजार युवक सभा के प्रांगण में भोजन तैयार किया जा रहा है। त्रिपुरा के कुछ यात्री भी महानगर में लॉक डाउन के कारण फंसे हुए हैं उन्हें यहां से भोजन दिया जा रहा है। इस तरह अन्य लोगों का भी ये संस्थाएं पेट भर रही हैं। इसमें उन लोगों को भोजन बनाने के काम पर लगाया है जो इन दिनों बेरोजगार हो गए हैं। आसपास के होटल, दुकानें बंद हो जाने की वजह से उसमे काम करने वाले कारीगर एवं मजदूर बेरोजगार हो गए हैं, ऐसे लोगों को बड़ाबाजार युवक सभा अपने यहां भोजन तैयार करने के काम पर लगाया है।