कोरोना से जंग में मिल रही कामयाबी, 28 दिन से 16 जिलों में नहीं मिला कोई नया केस


कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए इस समय देश में 40 दिन का लॉकडाउन है और यह 3 मई को खत्म हो रहा है. गृह मंत्रालय के साथ साझा प्रेस वार्ता में स्वास्थ्य मंत्रालय ने सोमवार को बताया कि 16 जिलों में पिछले 28 दिनों से कोई केस सामने नहीं आया है जबकि 3 जिले ऐसे भी हैं जहां कोई कोरोना केस नहीं आया. वहीं गृह मंत्रालय ने बताया कि लॉकडाउन के दौरान देश की 80 फीसदी मंडियों का संचालन शुरू किया जाएगा.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि 16 जिलों में पिछले 28 दिनों से कोई केस सामने नहीं आया है. जबकि 14 दिनों में 85 जिलों में कोरोना का कोई नया केस सामने नहीं आया है. 3 जिले ऐसे भी हैं, जहां कोई केस सामने नहीं आया है.

स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि कोरोना को लेकर मरीजों का रिकवरी रेट बढ़ रहा है. अभी रिकवरी रेट 22.71 फीसदी हो गया है. स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि कोरोना मरीजों की संख्या 27,892 हो गई है. देश में अब तक कोरोना के 20,835 एक्टिव केस हैं जबकि 6,184 लोग कोरोना से ठीक हो चुके हैं. पिछले 24 घंटे में कोरोना के एक हजार से ज्यादा केस (1,396 केस) सामने आए. जबकि इस दौरान 381 मरीज ठीक भी हुए हैं.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह भी कहा कि रेड और ऑरेंज जोन में लगातार सतर्कता बरती जा रही है. यूपी-पंजाब के एक-एक जिले से 28 दिनों बाद नया कोरोना केस सामने आया है.

कुछ गतिविधियों को इजाजतः गृह मंत्रालय

गृह मंत्रालय की प्रवक्ता पुण्य सलिला श्रीवास्तव ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान कुछ गतिविधियों को इजाजत दे दी गई है. कुछ क्षेत्रों में छूट दी गई है. देश की 80 फीसदी मंडियों का संचालन शुरू किया जाएगा. जबकि 60 फीसदी फूड प्रोसेसिंग शुरू हो गई हैं. किसानों के लिए खरीद फरोख्त को आसान बनाया गया है.

गृह मंत्रालय ने यह भी कहा कि केंद्र की टीम ने टेस्टिंग बढ़ाने का सुझाव दिया है. स्वास्थ्य मंत्रालय के साथ पीसी करते हुए गृह मंत्रालय ने कहा कि मनरेगा के तहत काम तेजी से चल रहा है. 2 करोड़ मजदूर काम कर रहे हैं. ग्रामीण क्षेत्रों में ईंट-भट्ठों पर काम शुरू कर दिया गया है.