उत्तर बंगाल में लॉकडाउन का पालन कराने में बढ़े सख्‍ती, केंद्रीय टीम ने मुख्य सचिव को पत्र लिख दिया सुझाव


कोरोना महामारी के हालात का जायजा लेने उत्तर बंगाल पहुंची केंद्र की एक टीम ने पश्चिम बंगाल सरकार को पत्र लिख कर उत्तर बंगाल में लॉकडाउन का और सख्ती से अनुपालन सुनिश्चित करने को कहा। दो केंद्रीय टीमें राज्य के दौरे पर हैं। एक टीम कोलकाता और दूसरी उत्तर बंगाल के सिलिगुड़ी का दौरा कर रही हैं। 

उत्तर बंगाल का दौरा कर रही टीम ने मुख्य सचिव राजीव सिन्हा को पत्र लिख कर कहा कि हालत पर नजर रखने और सरकार द्वारा उठाए गए विभिन्न कदम कितने प्रभावी साबित हो रहे हैं, इन बातों की जानकारी देने के लिए और फील्ड अधिकारियों की जरूरत है। इस टीम की अगुवाई वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी विनीत जोशी कर रहे हैं। जोशी ने अपने पत्र में कहा,‘तत्काल कदम के तौर पर यह सुझाव दिया जाता है कि महामारी को और आगे फैलने से रोकने के लिए लॉकडाउन का और सख्ती से पालन होना जरूरी है। हालत पर नजर रखने और सरकार द्वारा उठाए गए विभिन्न कदम कितने प्रभावी साबित हो रहे हैं, इन बातों की जानकारी देने के लिए और फील्ड अधिकारियों को तैनात करने की जरूरत है।’

सेंट जेवियर्स कॉलेज के पूर्व छात्रों ने अस्पताल को दिए पीपीइ

कोलकाता : सेंट जेवियर्स कॉलेज के पूर्व छात्रों के संगठन ने  कोलकाता के एक निजी अस्पताल के डॉक्टरों और चिकित्साकर्मियों को 300 सेट व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण (पीपीइ) दिए हैं। सेंट जेवियर्स कॉलेज (कलकत्ता) अलुमनी एसोसिएशन के प्रवक्ता ने इसकी जानकारी देते हुए कहा कि ये पीपीइ एक प्राधिकृत आपूर्तिकर्ता से खरीदे गए हैं, जो विश्व स्वास्थ्य संगठन और केंद्र सरकार  मानदंडों के मुताबिक हैं।

कॉलेज के प्रिंसिपल और एसोसिएशन के अध्यक्ष आर.एफ. डोमिनिक सैविओ ने कहा-'हमें डॉक्टरों और अग्रिम पंक्ति में खड़े स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं के पास खड़े होने की जरुरत है, जो संकट की इस घड़ी में महान सेवाएं प्रदान कर रहे हैं। हमारा छोटा सा प्रयास निश्चित रूप से समाज के उस वर्ग को सकारात्मक संकेत देगा। जिस अस्पताल को पीपीइ दिए गए हैं, वे मध्य कोलकाता के भीड़भाड़ वाले इलाके में स्थित है। इसके साथ ही सेंट जेवियर्स कॉलेज ने 16 गांवों के 3000 परिवारों के बीच आवश्यक वस्तुओं का भी वितरण किया है।