निर्भया के दोषियों को फांसी देने की तैयारी, मंगलवार शाम तिहाड़ जेल पहुंचेगा जल्लाद


निर्भया मामले के चारों दोषियों को 20 मार्च को फांसी होनी है. इसके मद्देनजर तिहाड़ प्रशासन चारों दोषियों को फांसी देने के लिए पूरी तरह तैयार है. 17 मार्च की शाम तक फांसी देने वाले जल्लाद पवन तिहाड़ जेल पहुंच जाएंगे. पवन के तिहाड़ पहुंचने के बाद एक बार फिर डमी फांसी दी जाएगी. इसके लिए 18 और 19 मार्च की तारीख तय की गई है.

तिहाड़ जेल सूत्रों के मुताबिक, दोषियों से आखिरी इच्छा पूछी गई है, लेकिन किसी ने अभी तक कुछ बताया नहीं है. बता दें कि चारों दोषियों की तीन बार फांसी टल चुकी है. सबसे पहले 22 जनवरी को फांसी की तारीख मुकर्रर हुई थी. दूसरी बार एक फरवरी और तीसरी बार 3 मार्च की तारीख तय की गई थी.

दोषियों के वकील ने ICJ को पत्र लिखा

इस बीच निर्भया के चार दोषियों में से तीन अक्षय सिंह (31), पवन गुप्ता (25) और विनय शर्मा (26) आईसीजे की शरण में पहुंचे हैं. दोषियों के वकील एपी सिंह ने सोमवार को अंतरराष्ट्रीय अदालत को पत्र लिखा है. पत्र में 20 मार्च की होने वाली फांसी पर रोक की मांग की गई है. साथ ही मांग की है कि निचली अदालत के सभी रिकॉर्ड अदालत अपने पास मंगाए ताकि वो अपना पक्ष अंतरराष्ट्रीय अदालत में रख सके. पत्र नीदरलैंड के दूतावास को दिया गया है जो ICJ को भेजा गया है.

सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की याचिका

बता दें कि पटियाला हाउस कोर्ट ने चारों दोषियों को 20 मार्च सुबह 5.30 बजे फांसी देने का डेथ वारंट जारी किया है. दोषियों के खिलाफ यह चौथी बार डेथ वारंट जारी किया गया है. सोमवार को निर्भया के दोषी मुकेश सिंह को सुप्रीम कोर्ट से झटका लगा. अदालत ने उसकी याचिका खारिज कर दी. याचिका में मुकेश ने अपनी पहली वकील वृंदा ग्रोवर के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी और दोबारा क्यूरेटिव पिटीशन-दया याचिका दायर करने की इजाजत मांगी थी.

फिलहाल, निर्भया के दोषियों के वकील भले ही अंतरराष्ट्रीय कोर्ट पहुंचे हों, लेकिन तिहाड़ जेल प्रशासन 20 मार्च की तय तारीख पर चारों दोषियों को फांसी देने के लिए तैयार है.