आज होगा फ्लोर टेस्ट? मध्य प्रदेश में सियासी घमासान के बीच SC में सुनवाई आज


मध्य प्रदेश में फ्लोर टेस्ट कब होगा? इसका जवाब आज सुप्रीम कोर्ट में मिल सकता है. भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की फ्लोर टेस्ट की मांग पर आज सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होगी. बीजेपी को उम्मीद है कि कर्नाटक की कहानी मध्य प्रदेश में दोहराई जाएगी.

इधर राज्यपाल लालजी टंडन ने पत्र लिखकर मुख्यमंत्री कलमनाथ को 17 मार्च यानी आज फ्लोर टेस्ट कराने को कहा. इसके बाद मुख्यमंत्री का काफिला राजभवन पहुंच गया. राज्यपाल से मिलने के बाद कमलनाथ बाहर आए और कहा कि हमारे पास बहुमत है. मुझे फ्लोर टेस्ट क्यों करना?, 16 विधायक सामने आएं.

26 मार्च तक विधानसभा स्थगित

फ्लोर टेस्ट को लेकर सोमवार को भोपाल में सुबह से रात तक काफी गहमागहमी रही. सुबह विधानसभा की कार्यवाही राज्यपाल के भाषण से हुई. राज्यपाल ने 1 मिनट में भाषण दिया और चल दिए. इसके बाद स्पीकर ने 26 मार्च तक कोरोना के नाम पर विधानसभा स्थगित कर दी.

राज्यपाल से मिलने पहुंचे कमलनाथ

बीजेपी ने सुप्रीम कोर्ट का रुख किया. साथ ही सभी 106 बीजेपी विधायकों की राजभवन में परेड कराई. शाम होते होते राज्यपाल ने मुख्यमंत्री को लेटर लिखकर फ्लोर टेस्ट कराने को कहा और रात होते-होते कमलनाथ राज्यपाल से मिलने राजभवन पहुंच गए.

क्या है विधानसभा का समीकरण

मध्य प्रदेश विधानसभा में कुल मौजूदा विधायक 228 हैं. स्पीकर ने 6 विधायकों के इस्तीफे मंजूर किया हैं यानी अब संख्या 222 है. बैंगलुरु में कांग्रेस के 16 विधायक हैं, जो फ्लोर टेस्ट के दौरान सदन से गायब रहे तो संख्या 206 हो जाएगी. ऐसे में बहुमत का आंकड़ा 104 होगा. 107 विधायकों के साथ बीजेपी ताल ठोक देगी और 92 विधायकों के साथ कांग्रेस हाथ मलती रह जाएगी. गैर कांग्रेस और गैर बीजेपी 7 विधायक भी कांग्रेस को बचा नहीं पाएंगे.

कमलनाथ से मिले बीजेपी विधायक

सोमवार को सियासी उठापठक के बीच विधायक नारायण त्रिपाठी ने बीजेपी की धड़कनें बढ़ा दी. बीजेपी विधायक अचानक कलमनाथ से मिलने उनके घर पहुंच गए. मुलाकात के बाद नारायण त्रिपाठी ने कहा कि मैंने बात किया और चला आया. मैं सब से मिलता हूं. आज मैं शिवराज जी से भी मिलूंगा. मैं राजभवन नहीं गया, नहीं गया, मेरा मन है.