About Me

header ads

Coronavirus: हाथों में स्टांप के बावजूद यात्रा करने पर ट्रेन से उतारे गए कोरोना के चार संदिग्ध


बांद्रा टर्मिनस और नई दिल्ली के बीच चलने वाली गरीब रथ ट्रेन से कोरोना वायरस के चार संदिग्ध यात्रियों को पालघर रेलवे स्टेशन पर उतारा गया गया है.  

पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी के मुताबिक, चार यात्रियों में कोरोना वायरस का संदेह था। ये चारों जर्मनी से सूरत जा रहे थे. बुधवार को ये पालघर में गरीब रथ ट्रेन से सवार हुए थे. इनके हाथों पर घर में अलग रहने की स्टांप लगने के बाद भी ये यात्रा कर रहे थे.

महाराष्ट्र में प्रसिद्ध सिद्धिविनायक मंदिर समेत कई पर्यटन स्थल बंद

महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. राज्य में छह नए मामले दर्ज किए और यह आंकड़ा 42 पर पहुंच गया है. इसको देखते हुए राज्य सरकार ने कई अहम फैसले किए हैं. मुंबई के प्रसिद्ध सिद्धिविनायक समेत कई मंदिरों, तीर्थस्थलों और पर्यटन स्थलों को आम लोगों के लिए इस महीने तक बंद कर दिया गया है. ग्रामीण क्षेत्रों में भी स्कूल और कॉलेज समेत सभी शिक्षण संस्थाओं को 31 मार्च तक बंद रखने का आदेश दिया गया है.

हालात की गंभीरता को देखते हुए मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने सोमवार को अपने सरकारी आवास पर ही स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे एवं मुख्य सचिव के साथ समीक्षा बैठक की. इस बैठक में सभी जिलाधिकारी भी वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए शामिल हुए। बैठक के बाद मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों में भी स्कूल-कॉलेज बंद करने का निर्णय किया गया है. उन्होंने आम लोगों से घर से निकलने से बचने की अपील है. मुख्यमंत्री ने किसी शहर या पूरे राज्य को लॉकडाउन करने की योजना से इनकार किया है और कहा है कि लोगों के सहयोग से ही हालात को बिगड़ने से बचाया जा सकता है.

मुंबई के बाद नागपुर में भी धारा 144 लगा दी गई है. वहीं, बृहन्मुंबई महानगर पालिका ने सरकारी और निजी क्षेत्र की कंपनियों से अपने कर्मचारियों को घर से ही काम करने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए कहा है. बीएमसी ने सर्कुलर जारी कर कहा है कि गैर जरूरी सेवा प्रदाता कंपनियों को अपने स्टाफ में 50 फीसद की कटौती करनी चाहिए. महाराष्ट्र में कोरोना वायरस से संक्रमित मामले पिछले दिन के 33 से बढ़कर सोमवार को 39 हो गए. सोमवार को छह नए मामले दर्ज किए गए। इनमें मुंबई में तीन, नवी मुंबई में दो और यवतमाल मे एक मामला शामिल है. इस प्रकार पुणे के उपनगर पिंपरी चिंचवण में अब तक नौ, पुणे में सात, मुंबई में छह, नागपुर में चार, यवतमाल, नवी मुंबई और कल्याण में तीन-तीन और रायगढ़, ठाणे, अहमदनगर एवं औरंगाबाद में एक-एक मामला सामने आया है.

सिद्धिविनायक मंदिर के अलावा उस्मानाबाद का तुलजाभवानी मंदिर एवं रत्‍‌नागिरि का गणपति फुले मंदिर को भी 31 मार्च तक बंद कर दिया गया है. इन मंदिरों में वहां के पुजारियों द्वारा पूजा-पाठ चलता रहेगा। राज्य में पर्यटन के बड़े केंद्र औरंगाबाद स्थित एलोरा की गुफाएं भी सात अप्रैल तक बंद रहेंगी. इसी शहर में स्थित अन्य पर्यटन स्थल बीबी का मकबरा, दौलताबाद का किला सहित अन्य पर्यटन स्थलों को भी बंद रखने का निर्णय किया गया है। पुणे और मुंबई में महानगर पालिकाओं ने कोरोना बीमारी को लेकर जनजागरण के लिए कई टीमों का गठन किया है. ये टीमें घर-घर जाकर लोगों को कोरोना से बचने के उपाय बता रही हैं.

स्वत: क्वारंटाइन की सलाह

स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे के अनुसार कोरोना वायरस से अतिसंक्रमित देशों से आए नागरिकों स्वत: ही 15 दिनों तक घर में ही रहने की सलाह दी गई है. ऐसे लोगों की पहचान करने का फैसला किया गया. इसके लिए ऐसे लोगों के बाएं हाथ पर एक मुहर लगाई जा रही है. बाहर निकलने पर उनकी आसानी से पहचान की जा सके. ऐसे लोगों के घरों पर स्थानीय पुलिस निगाह रखेगी.

दोस्त के साथ बाइक पर घूमने निकल गया संक्रमित

संक्रमितों की पहचान सुनिश्चित करने के लिए राज्य सरकार ने यह फैसला इसलिए किया है, क्योंकि पिंपरी-चिंचवण के एक अस्पताल से एक पीडि़त रविवार सुबह बिना बताए चला गया और दिनभर अपने मित्र के साथ मोटरसाइकिल पर घूमता रहा. पुलिस शाम को उसे ढूंढकर वापस अस्पताल ले आई.