कोरोना के आतंक के बीच बच्चों में बांटे परीक्षा परिणाम


युवा शक्ति टीम 
-
हावड़ा:  बेलूर थानांतर्गत गिरीश घोष रोड स्थित एक अंग्रेजी माध्यम के विद्यालय पर बच्चों में परीक्षा परिणाम (रिजल्ट) बांटने का आरोप लगा है। आरोप है कि विद्यालय प्रशासन ने बच्चों के अभिभावकों को फोन कर रिजल्ट देने की सूचना दी। जिसके बाद अभिभावक बच्चों के साथ स्कूल पहुंचे जहां से उन्हें रिजल्ट दिया गया। विद्यालय का नाम सेंट डेनीस स्कूल है। रिजल्ट लेने आये एक बच्चे के अभिभावक सुब्रत बेज ने कहा कि उन्हें विद्यालय की प्रिंसिपल ने नहीं बल्कि एक बच्चे ने फोन पर सूचना दी थी कि विद्यालय में रिजल्ट बांटे जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि स्कूल की ओर से कुछ बच्चों को सूचना दी गई थी कि स्कूल में सोमवार को रिजल्ट के साथ- साथ पुस्तकें भी दी जाएगी और उन्हें यह कहा गया था कि वे अन्य बच्चों को इसकी सूचना दे दे। इसलिए अभिभावक स्कूल आ कर रिजल्ट ले रहे हैं। 

हालांकि विद्यालय प्रशासन ने रिजल्ट बांटे जाने के आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया है। इस मुद्दे पर बात करने पर विद्यालय की प्रिंसिपल का कहना था कि विद्यालय के गैरशिक्षक कर्मचारियों को अग्रिम वेतन के तौर पर कुछ रुपये देने के लिए बुलाया स्कूल में बुलाया गया था। इसी बीच कुछ अभिभावक यह सोचकर स्कूल आये थे कि विद्यालय में पुस्तकें बांटी जा रही है। उन्होंने आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि बच्चों को पहले ही रिजल्ट दिया जा चुका है, आज कोई रिजल्ट नहीं दिया जा रहा था।

लॉकडाउन के समय जब पूरी दुनिया अपने घर में जीवन काट रही है ऐसे में एक स्कूल के द्वारा रिजल्ट बांटे जाना कहां तक सही है। इस मुद्दे पर बात करने पर हावड़ा सिटी पुलिस के एसीपी (उत्तर) अमित कुमार साव ने कहा कि उन्हें इस बात की सूचना मिली थी कि गिरीश घोष रोड में एक स्कूल में कुछ क्रियाकलाप चल रहा है। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और स्कूल को बंद करा दिया।