एक रूम के घर में जन्म, कॉलेज ड्रॉपआउट; यह शख्स आज है देश का दूसरा सबसे बड़ा धनकुबेर


DMart के प्रमोटर और अवेन्यू सुपरमार्केट के फाउंडर राधाकिशन दमानी फोर्ब्स की हालिया सूची के मुताबिक देश के दूसरे सबसे अमीर शख्स बन गए हैं. दमानी ने इस तरह फर्श से अर्श तक का सफर तय किया है। कभी मुंबई में एक कमरे के घर में जन्में दमानी के पास आज 17.9 अरब डॉलर की संपत्ति है. Forbes Real Times Billionaires Index के मुताबिक दमानी ने देश के अमीर लोगों की सूची में HCL के शिव नादर (16.5 अरब डॉलर), उदय कोटक (14.9 अरब डॉलर) और गौतम अडाणी (14.1 अरब डॉलर) को भी पीछे छोड़ दिया है.

राधाकिशन दमानी की शख्सियत

ब्लूमबर्ग के मुताबिक राधाकिशन दमानी का जन्म एक जनवरी 1956 को मुंबई में हुआ था. उन्होंने एक कमरे से यहां तक का सफर किया है. फर्स्ट ईयर के बाद उन्होंने कॉलेज जाना छोड़ दिया. इसके बाद वह स्टॉक मार्केट में ब्रोकर बन गए. 1980 के दशक में वह शेयर ट्रेडर बन गए। दमानी ने 2000 में स्टॉक ट्रेडिंग का काम छोड़ दिया और नवी मुंबई में कम कीमत पर जमीन खरीदकर रिटेल बिजनेस शुरू किया.

मिस्टर वाइट एंड वाइट' की इमेज

दमानी को करीब से जानने वाले बताते हैं कि वह आम तौर पर सफेद और हल्के रंग के कपड़े पहनते हैं. यही वजह है कि स्टॉक मार्केट के प्रमुख निवेशकों के बीच दमानी 'मिस्टर वाइट एंड वाइट' के नाम से जाने जाते हैं. इसके साथ ही वह कभी शॉर्टकट में यकीन नहीं करते हैं। वह लंबे समय के निवेश पर नजर रखते हैं.

2002 रहा अहम साल

दमानी ने 2002 में पहले D-Mart की शुरुआत की। उन्होंने 2002 में एवेन्यू सुपरमार्केट्स की स्थापना की. पहले नौ साल में कंपनी ने 25 स्टोर खोले. मार्च 2017 के आंकड़ों के मुताबिक देश के 45 शहरों में D-Mart के 118 स्टोर हैं. साल 2017 में Avenue Supermarts के IPO को शानदार रेस्पांस मिला था. कंपनी को उसी साल भारत में लिस्ट किया गया था.

दौलत के मामले में केवल मुकेश अंबानी से पीछे

दमानी भारतीय धनकुबेरों की सूची में केवल रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी से पीछे हैं. अंबानी एशिया के सबसे अमीर व्यक्ति हैं. दमानी और उनके परिवार के अन्य सदस्य एवेन्यू सुपरमार्केट के प्रमोटर हैं. एवेन्यू सुपरमार्केट के एक शेयर की कीमत के 13 फरवरी को 2,559 रुपये तक पहुंच जाने के कारण प्रमोटर्स की परिसंपत्ति में 9.6 करोड़ डॉलर की बढ़ोत्तरी हुई है. कंपनी द्वारा 4,000 करोड़ रुपये बाजार मूल्य के दो करोड़ QIP (क्वालिफाइड इंस्टीट्यूशनल प्लेसमेंट) लाए जाने के प्रस्ताव को मंजूरी दिए जाने के बाद कंपनी के शेयरों में यह बढ़त देखने को मिली.