मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा- कसम खाए कि बंगाल में भाजपा, कांग्रेस व सीपीएम को नहीं आने देंगे


नागरिकता संशोधन विधेयक बिल 2019 राष्ट्रीय नागरिकता पंजीयन(एनआरसी) की तरह एक जाल है, जो वैध नागरिकों को शरणार्थी करार कर देगा. इसलिए इसका पुरजोर विरोध करें. भाजपा इसे शीतकालीन सत्र में जबरिया पारित कराने के फेर में है मगर मैं ऐसा नहीं होने दूंगी. यह कहना है प्रदेश की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का. सोमवार को लोकसभा चुनाव के बाद सीएम ममता बनर्जी का उत्तर बंगाल का दूसरा दौरा था, मुख्यमंत्री कूचबिहार स्थित नेताजी इंडोर स्टेडियम में आयोजित कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित कर रहीं थीं.

नागरिकता संशोधन बिल पर आपत्ति जताते हुए उन्होंने कहा कि इस बिल के पारित होने से बंगाली व हिंदू इस देश की नागरिकता सूची से बाहर कर दिए जायेंगे. केंद्र सरकार इसे पारित करने पर आमादा है. इस बिल के पास होने से बांग्लादेश, अफगानिस्तान व पाकिस्तान के ऐसे अल्पसंख्यकों को भारत में रहने की सुविधा मिल जाएगी तथा बिल पारित होने के बाद से सात साल यहां रहने के बाद उन्हें भारतीय नागरिकता मिल जाएगी. इसके लिए किसी दस्तावेज की जरूरत नहीं होगी.

मुख्यमंत्री ने एयर इंडिया को बेचने पर भी आपत्ति जताई. उन्होंने कहा कि हमारी सरकार यदि सत्ता में आती है तो कूचबिहार के शरणार्थियों को नागरिकता दी जाएगी. लोकसभा चुनाव में पैसा देकर व केंद्रीय वाहिनी के बल पर चुनाव जीती थी भाजपा। हैदराबाद से भाजपा के गुंडे कूचबिहार में आए हुए थे.

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने उत्तर बंगाल विकास मंत्री रवींद्रनाथ घोष की सेहत पर बोलते हुए कहा कि उनका एनजीप्लास्ट हुआ है. वें अभी ठीक है. अपने विकास कार्य पर बोलते हुए दीदी ने कहा कि आठ साल में मैंने 43 मल्टी सुपर स्पेश्यिालिटी हॉस्पिटल तैयार किए.

उन्होंने आपसी गुटबाजी पर पूर्ण विराम लगाने की सलाह कार्यकर्ता को देते हुए बंगाल में भाजपा, माकपा व कांग्रेस का नहीं आने देने की कसम खिलवाई. इस कार्यकर्ता सम्मेलन में राज्य अध्यक्ष सुब्रत बख्शी, कूचबिहार के जिला अध्यक्ष विनय कृष्ण बमर्न, कार्यकारी अध्यक्ष पार्थ प्रतिम राय, विधायक उदयन गुहा सहित विभिन्न विधायक व अधिकारी उपस्थित थे.

सम्मेलन के बाद वह स्थानीय मदन मोहन मंदिर गईं जहां उन्होंने पूजा अर्चना की। ज्ञातव्य है कि वह विगत 13 नवंबर को उत्तर बंगाल के दौरे पर आने वाली थीं मगर अचानक प्राकृतिक आपदा बुलबुल से उनका दौरा रद्द हो गया. मंगलवार को मालदा में एवं बुधवार को गंगारामपुर में प्रशासनिक बैठक करेंगी.