About Me

header ads

दिल्ली में 1690 लोगों की सड़क हादसों में हुई मौत, पैदल चलने वालों की गई सबसे ज्यादा जानें


दिल्ली ट्रैफिक पुलिस (Delhi Traffic Police) ने साल 2018 की सड़क हादसों की रिपोर्ट पेश की है, जिसे पढ़कर आप हैरान और परेशान दोनों हो सकते हैं। दरअसल रिपोर्ट में बताया गया है कि देश की राजधानी में साल 2018 में सड़क हादसों के दौरान कुल 1690 लोगों की मौत हुई है। यह आंकड़ा इसलिए भी परेशान करने वाला है, क्योंकि हादसे में होने वाली मौतों की संख्या साल 2017 के मुकाबले और भी बढ़ गई है। इससे पहले दिल्ली ट्रैफिक पुलिस की तरफ से जारी रिपोर्ट में बताया गया था कि साल 2017 में 1584 लोगों की सड़क हादसों में मौत हुई थी।

रिपोर्ट में बताया गया है कि दिल्ली में साल 2018 में कुल 6515 रोड एक्सीडेंट हुए हैं। इनमें 6086 लोग घायल हुए हैं। वहीं, 1690 लोगों की मौत हो गई है। इस दौरान मौतों की संख्या में 6.69 फीसद की बढ़ोतरी हुई है जो सबसे बड़ी चिंता का कारण है। हालांकि, इस दौरान सड़क हादसों में 2.36 फीसद की कमी आई है जो एक राहत की खबर है।

रिपोर्ट में बताया गया है कि इन दुर्घटनाओं में सबसे ज्यादा मौतें पेडेस्ट्रियन्स (Pedestrians) की हुई हैं। साल 2018 में कुल हादसों में 45.86 फीसद पेडेस्ट्रियन्स की मौत हुई है। वहीं, दूसरे नंबर पर सबसे ज्यादा जानें स्कूटर और मोटरसाइकिल राइडर्स की हुई है। कुल हादसों में 33.72 फीसद स्कूटर और मोटरसाइकिल राइडर्स की मौतें हुई हैं।

दरअसल 2009 के बाद से लगातार सड़क हादसों में हो रही मौतों की संख्या में गिरावट देखी जा रही थी। हालांकि, साल 2018 में यह पूरी तरह से उल्टा हो गया। रिपोर्ट में बताया गया है कि दिल्ली में होने वाले हादसों का सबसे ज्यादा जिम्मेदार हरियाणा में रजिस्टर हुई गाड़ियां हैं। 1657 मौतों में 150 हादसे हरियाणा में रजिस्टर हुई गाड़ियों के कारण हुए हैं। रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि 743 मौतें दिन में हुई हैं। वहीं, 914 मौतें रात में हुई हैं।