एसएसबी 29 वीं बटालियन द्वारा विद्युत वायरिंग एवं विद्युत उपकरण मरम्मत का प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ

 गया:नागरिक कल्याण कार्यक्रम (कैप) के अंतर्गत एसएसबी के 29 वीं बटालियन द्वारा नागरिकों के कल्याण हेतु विद्युत वायरिंग एवं विद्युत उपकरण मरम्मत प्रशिक्षण का शुभारंभ गया शहर के केंदुई स्थित सरकारी आईटीआई में किया गया.


इस कार्यक्रम के मौके पर विशिष्ट मुख्य अतिथि के रूप में एसएसबी के डीआईजी छेरिंग दोरजे उपस्थित हुए.मौके पर एसएसबी के 29 वीं बटालियन के कमांडेंट एच के गुप्ता, आईटीआई के उप प्राचार्य, इंजीनियर प्रदीप कुमार, प्रशिक्षण प्रभारी कैलाश सिंह, आदि लोग उपस्थित थे.


इस प्रशिक्षण में 29 वीं वाहिनी के क्षेत्र अंतर्गत गया, औरंगाबाद, रोहतास से कुल 30 बच्चों को प्रशिक्षण दिलवाया जा रहा है.सभा को संबोधित करते हुए कमांडेंट एच के गुप्ता ने कहा कि एसएसबी भारत-नेपाल सीमा, भारत-भूटान सीमा के साथ-साथ कानून व्यवस्था चुनाव, अंतरिक सुरक्षा एवं नक्सल विरोधी अभियान में अहम भूमिका निभाता रहा है.इसके नागरिकों के कल्याण हेतु भारत सरकार के कई कार्यक्रमों को सफलतापूर्वक संचालन कराता रहा है और कर भी रहा है.इसी उद्देश्य से आज 30 बच्चों को प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ किया जा रहा है.जिससे स्थानीय नागरिक युवक-युवती लाभान्वित हो रहें हैं.  


इसी माह मे मशरूम उत्पादन खेती का प्रशिक्षण कृषि विज्ञान संस्थान में नक्सल प्रभावित इलाकों के 35 बच्चों को प्रशिक्षण दिलवाया गया.जिससे वह अपने और अपने परिवार का भरण पोषण कृषि के माध्यम से एवं स्वरोजगार करके कर सकते हैं.पिछले कुछ वर्षों से विभिन्न प्रकार के प्रशिक्षण कार्यक्रम जैसे मशरूम की खेती का प्रशिक्षण, मोबाइल इलेक्ट्रॉनिक, ईपेमेंट रिपेयरिंग, मोटर ड्राइविंग, कोर्स 3 लेयर एग्रीकल्चर प्रशिक्षण, ब्यूटीशियन कोर्स, हॉस्पिटैलिटी मैनेजमेंट कोर्स, आदि का प्रशिक्षण नक्सल प्रभावित इलाकों में जरूरतमंद लोगों के लिए करवाया गया.जिससे कि वे आत्मनिर्भर बन देश के विकास में सहभागी बने.



वहीं मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित हुए एसएसबी के डीआईजी छेरिंग दोरजे ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि सभी लोगों को नौकरी मिलना संभव नहीं है.बेरोजगार कम करने के लिए स्वरोजगार अच्छा विकल्प है.विद्युत वायरिंग एवं विद्युत उपकरण मरम्मत प्रशिक्षण का प्रशिक्षण प्राप्त कर परिवार को संबल प्रदान करेगा एवं युवाओं को गलत कार्य की तरफ ध्यान भटकाने नहीं देगा.उन्होंने कहा कि जनसंख्या के हिसाब से स्वरोजगार अच्छी स्रोत है एवं अपने पैरों पर खुद खड़ा हो सकते हैं.उन्होंने कहा कि घर से बाहर निकले हैं तो कुछ नया सीख कर निकलेंगे.बच्चों का ख्याल अच्छा होना चाहिए, तभी देश पावरफुल बनेगा. जब यहां से निकलेंगे तो नई सोच और नई उमंग के साथ निकलेंगे एवं किसी पर आधारित ना रहेंगे.









-द्वितीय कमान अधिकारी टी राजेश पॉल ने सभी का धन्यवाद ज्ञापन किया.

इस कार्यक्रम के दौरान 29 वीं बटालियन के द्वितीय कमान अधिकारी टी राजेश पॉल ने सभी को धन्यवाद ज्ञापन किया.मंच का संचालन उप कमांडेंट ज्ञानेंद्र कुमार ने किया.उक्त मौके पर अनुज कुमार प्रशिक्षक आईटीआई एवं अन्य बल कर्मी उपस्थित थें.