29वीं वाहिनी सशस्त्र सीमा बल द्वारा नागरिकों के कल्याण हेतु आवासीय 05 दिवसीय मशरूम की खेती का प्रशिक्षण का शुभारंभ

नागरिक कल्याण कार्यक्रम (CAP) के अंतर्गत 29वीं वाहिनी सशस्त्र सीमा बल द्वारा नागरिकों के कल्याण हेतु आवासीय 05 दिवसीय मशरूम की खेती का प्रशिक्षण का शुभारंभ


समारोह श्री एच. के. गुप्ता कमांडेंट, 29वीं वाहिनी सशस्त्र सीमा बल, गया (बिहार) एवं एस. , बी. सिंह, मुख्य वैज्ञानिक-सह-विश्वविद्यालय प्राध्यापक एवं प्रभारी कृषि विज्ञान केन्द्र, आमस गया एवं डा० अशोक कुमार, वैज्ञानिक एवं प्रभारी, कृषि विज्ञान केंद्र. मानपुर गया के उपस्थिति में किया गया. इस प्रशिक्षण में वाहिनी के सभी समवाय क्षेत्रों (जिला गया, औरंगाबाद एवं रोहतास) से कुल 35 किसानों को प्रशिक्षण दिया गया I

इस मौके पर कमांडेंट महोदय ने बताया कि सशस्त्र सीमा बल भारत- नेपाल सीमा व भारत भूटान सीमा के ड्यूटी के साथ-साथ कानून व्यवस्था - चुनाव, आंतरिक सुरक्षा, एवं नक्सल विरोधी अभियान जैसे ड्यूटी की अपनी अहम भूमिका निभा रही है इसके अलावा नागरिकों के कल्याण हेतु भारत सरकार के कई कार्यक्रमों का सफलतापूर्वक संचालन पूर्व में भी किया गया है। I जिसमें स्थानीय नागरिक एवं युवक युवती काफी लाभान्वित हुए हैं। पिछले कुछ वर्षों में विभिन्न प्रकार के प्रशिक्षण कार्यक्रम जैसे मशरूम की खेती का प्रशिक्षण मोबाइल एवं इलेक्ट्रॉनिक इक्विपमेंट रिपेयरिंग, मोटर ड्राइविंग कोर्स, 3 लेयर एग्रीकल्चर प्रशिक्षण, ब्यूटीशियन कोर्स, हॉस्पिटैलिटी मैनेजमेंट कोर्स का संचालन किया गया है I नक्सल प्रभावित इलाके में जरूरतमंद लोगों के लिए इस तरह का प्रशिक्षण कराया जा रहा है I जिससे कि वे आत्मनिर्भर बनकर देश के विकास में सहभागी बने 1

कमांडेंट महोदय ने बताया कि सभी लोगों को नौकरी मिलना संभव नहीं है I अतः बेरोजगारी कम करने के लिए स्वरोजगार अच्छा विकल्प है स्थानीय बाजार में मशरूम की मांग एवं खपत बढ़ा है अतः पढ़े लिखे युवा किसान कम जगह पर कम लागत में मशरूम उत्पादन का कार्य करके स्वरोजगार अपना सकता है अतः यह एक परिवार को संबल प्रदान करने एवं युवा का ध्यान गलत कार्य की तरफ नहीं भटकेगा 1

इस कार्यक्रम के दौरान बटालियन के श्री टी राजेश पाल, द्वितीय कमान अधिकारी, श्री ज्ञानेन्द्र कुमार, उप कमांडेंट, अन्य बल कर्मी कृषि विज्ञान केंद्र के अधिकारी डॉ अशोक कुमार वैज्ञानिक प्रसार शिक्षा जो इस प्रशिक्षण के मुख्य प्रशिक्षक भी हैं एवं अन्य कर्मचारी भी उपस्थित रहे.