1.24 करोड़ ऋण लिये 150 लोगों की होगी गिरफ्तारी, वारंट जारी

 मुजफ्फरपुर को- ऑपरेटिव बैंक में एमडी ने की समीक्षा बैठक

एक दशक से को-ऑपरेटिव बैंक का ऋण दबाये बैठे लोगों को गिरफ्तारी होगी जिला सहकारिता पदधिकारी सह नीलाम पत्र पदाधिकारी की ओर से सभी के विरुद्ध वारंट निर्गत किया जा चुका है, विभिन्न शाखा प्रबंधकों को अब बानेदार से मिल कर उन्हें गिरफ्तार कराने की जिम्मेवारी दे गयी है, को ऑपरेटिव बैंक की शाखा में मंगलबार को एमडी अध्यक्षता में शाखा प्रबंधकों की बैठक दुई. इसमें सभी शाखाओं में ऋण


बैंक के एमड़ी ने बताया कि सभी शाखा मामले की समीक्षा की गयी. इसमें यह मामला सामने आया कि जिले में करीब 150 से अधिक लोगों ने धान खरीद करने और केसीसी के नाम पर करीब एक करोड़ 24 लाख ऋण लिया था. ऋण लेने के बाद वे सभी लोग रुपये कुमार शर्मा को प्रबंधकों को बने से समन्वय स्थापित कर गिरफ्तारी कराने के लिए निर्देश दिया गया है,


ओटीएस से व्याज में मिलेगी 90 फीसदी छूट


जमा नहीं कर रहे है, ऐसे धारक हैं जिन्हें तीन से चार बार रुपये जमा करने का नोटिस दिया जा चुका है, उन पर संबंधित थाने में प्रथमिकी दर्ज करायी गयी है, इसके बाद भी वे रुपये नहीं जमा कर रहे हैं, मौजूद थे.

एमडी बीरेंद्र कुमार शर्मा ने बताया कि 31 मार्च तक ओटीएस (एकमुश्त समझता योजना लागू है. इसमें ब्याज पर 90 फीसदी की छूट दी जायेगी. संबंधित शाखा जाकर लोग इसकी जानकारी ले सकते हैं, मौके पर शाखा प्रबंधक शक्ति भूषण पांडेय, इंद्रमोहन झा, रजनीश कुमार, अर्चना, शिवमणी पटेल, चंदन कुमार चौधरी, चंदन कुमार, राज कुमार विश्वास मौजूद थे