कोयले के काले धंधे में Manager Roy फिर सक्रिय, धनबाद पुलिस ने मारा छापा; JMM राज में काम नहीं आ रहा BJP का चोला

कोयले के अवैध कारोबारियों के खिलाफ धनबाद जिला प्रशासन ने अभियान शुरू किया है। शिकार हुए हैं कुख्यात मैनेजर राय। उनके गोविंदपुर स्थित महादेव हार्डकोक प्लांट में जिला खनन विभाग ने वरीय अधिकारियों की मौजूदगी में छापेमारी की है। इस क्रम में छापेमारी टीम ने करीब आठ करोड़ मीट्रिक टन अवैध कोयला जब्त करते हुए कोयले के अवैध कारोबार के रैकेट का खुलासा किया। वहीं इस संबंध में जिला खनन पदाधिकारी अजीत कुमार के आवेदन पर गाेविंदपुर थाना में देर रात एक प्राथमिकी दर्ज की गई है। कोयले के काले धंधे के लिए राय झारखंड, बिहार और पश्चिम बंगाल में चर्चित हैं। झारखंड में भाजपा की सरकार थी तो वे भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए थे। अब झामुमो की सरकार है। ऐसे में भाजपा का ढाल मैनेजर के काम नहीं आ रहा है। 

डीसी के निर्देश पर एडीएम के नेतृत्व में शुरू छापेमारी

मामले की गंभीरता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि शुक्रवार को छापेमारी के दौरान पुलिस विभाग को इससे दूर रखा गया था। जबकि छापेमारी स्थल पर एडीएम ल एंड आर्डर कुमार ताराचंद और अनुमंडल पदाधिकारी प्रेम कुमार तिवारी सहित आधा दर्जन से ज्यादा दंडाधिकारी सुबह 10 बजे से लेकर देर शाम छ: बजे तक खुद मौजूद रहे। वहीं छापेमारी की सूचना मिलने पर पहुंचे थाना प्रभारी को परिसर में घुसने से रोक दिया गया। इसकी जानकारी देते हुए एडीएम ला एंड आर्डर ने बताया कि छापेमारी की यह कारवाई उपायुक्त संदीप सिंह ने निर्देश पर की गई। उपायुक्त को महादेव हार्डकोक कंपनी द्वारा कोयले के अवैध कारोबार की गुप्त सूचना मिली थी। जिसपर उन्होंने छापामारी दल का गठन कर कारवाई करने का आदेश दिया था। उनके आदेश के अनुपालन के क्रम में यह कारवाई की गई। इस दरम्यान कंपनी के निदेशक द्वारा बड़े पैमाने पर बिना डीओ के ही कोयले का कारोबार करने की जानकारी मिली।