महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, बंगाल समेत कई राज्यों में बाढ़ से बुरा हाल, सेना ने संभाला मोर्चा

देश के कई राज्यों में भारी बारिश और बाढ़ ने लोगों का हाल बेहाल कर दिया है। यूपी, बिहार, उत्तराखंड, हिमाचल, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और पश्चिम बंगाल समेत कई राज्य बाढ़ और बारिश की मार झेल रहे हैं। भारी बारिश की वजह से नदियों का पानी सड़कों पर आ गया है। बाढ़ प्रभावित इलाकों में आर्मी और वायुसेना ने मोर्चा संभाला हुआ है। मध्य प्रदेश के शिवपुरी, श्योपुर, दतिया, ग्वालियर, भिंड, गुना और रीवा में लगभग 1171 गांव प्रभावित हुए हैं। करीब 200 गांव बाढ़ के पानी से घिरे हुए हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को हालात की जानकारी दी है। बाढ़ प्रभावित श्योपुर गांव से 1000 से अधिक लोगों को सुरक्षित निकाल लिया गया है, जबकि ज्वालापुर गांव में फंसे लगभग 1000 लोगों को बचाने के लिए अभियान चल रहा है।

बंगाल में बाढ़ से 15 लोगों की मौत, तीन लाख लोग प्रभावित

पश्चिम बंगाल में भारी बारिश के चलते दामोदर घाटी निगम के बांधों से पानी छोड़े जाने के बाद आई बाढ़ की वजह से लाखों लोग प्रभावित हुए हैं। ताीन लाख से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है, जबकि 15 लोगों की अबतक मौत हो चुकी है। वहीं, पूर्वी वर्द्धमान, पश्चिम वर्द्धमान, पश्चिमी मेदिनीपुर, हुगली, हावड़ा और दक्षिण 24 परगना के बड़े हिस्से जलमग्न हो गए हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को फोन किया और राज्य में बाढ़ की स्थिति का जायजा लिया। पीएम मोदी ने ममता को बाढ़ की स्थिति से निपटने के लिए हरसंभव केंद्रीय सहायता का आश्वासन दिया।

महाराष्ट्र में राहत पैकेज की घोषणा

महाराष्ट्र के आठ जिलों में 22 जुलाई से शुरू हुई मूसलाधार बरसात के कारण भीषण बाढ़ की स्थिति पैदा हो गई थी। भूस्खलन एवं बाढ़ में करीब 225 लोग मारे गए एवं करोड़ों की संपत्ति का नुकसान हो चुका है। राज्य सरकार ने बाढ़ प्रभावित लोगों के लिए 11,500 करोड़ रुपये के राहत पैकेज की घोषणा की है। राज्य मंत्रिमंडल के फैसलों के अनुसार, बाढ़ प्रभावित प्रत्येक परिवार को 10 हजार रुपये की आर्थिक मदद सीधे उसके खाते में दी जाएगी। क्षतिग्रस्त मकानों की मरम्मत के लिए नुकसान के अनुरूप 15 हजार से डेढ़ लाख रुपये तक की मदद की जाएगी। केंद्रीय कृषि मंत्री द्वारा महाराष्ट्र के किसानों के लिए 700 करोड़ रुपये का राहत पैकेज पहले ही घोषित किया जा चुका है।

24 घंटे में छह लोगों की मौत

राजस्थान में बारिश के कारण हुए विभिन्न हादसों में 24 घंटे में छह लोगों की मौत हो गई है। मंगलवार सुबह टोंक जिले के सिरस गांव में एक एंबुलेंस पानी के तेज बहाव में बह गई । एंबुलेंस एक महिला का शव लेकर जयपुर से सिरसा गांव जा रही थी कि पानी के तेज बहाव में बह गई। चालक और एक अन्य ने तो एंबुलेंस की खिड़की से कूदकर जान बचाई, लेकिन महिला के 10 वर्षीय बेट की मौत हो गई और उसका पति रामजीलाल पानी के तेज बहाव में बह गया, बाद में उसका शव मिला ।