सरकार ने बनाया ये धांसू प्लान, अब मोबाइल चोरी करने वालों की खैर नहीं

केंद्र सरकार की तरफ से मोबाइल चोरी को रोकने के लिए एक प्रोजेक्ट तैयार किया गया है, जिसे दिल्ली और मुंबई में लॉन्च किया गया है। इसमें दूरसंचार विभाग (DoT) के अंतर्गत सेंट्रल इक्पिमेंट आइडेंडिटि रजिस्ट्रेशन प्रोजेक्ट का गठन किया गया है, जो दिल्ली और मुंबई में चोरी के मोबाइल की पहचान करके उन्हें ब्लॉक करने का काम करेगा।

पीटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक इस प्रोजेक्ट में चोरी और खोने वाले इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस के IMEI नंबरों को ट्रेस करने उन्हें हमेशा के लिए ब्लॉक किया जाएगा। रिपोर्ट के मुताबिक इससे मोबाइल चोरी की घटनाओं में कमी आएगी। साथ ही चोरी के मोबाइल को दोबारा नहीं बेच जा सकेगा।

पुराना फोन खरीदते रहें सावधान

रिपोर्ट के मुताबिक चोरी के मोबाइल को रिसेल में सस्ते दामों में बेच दिया जाता है। लेकिन अब पुराने मोबाइल को खरीदते वक्त सावधान रहना चाहिए। पुराने मोबाइल को खरीदने से पहले Zipnet.delhipolice.govin पर लॉग-इन करके वेरिफाई करना चाहिए। हालांकि अगर दिल्ली में मोबाइल चोरी हुआ है, तभी उसकी जानकारी मिलेगी।

दिल्ली-मुंबई के बाहर चोरी होने पर क्या करें 

सबसे पहले मोबाइल चोरी की सूचना पुलिस स्टेशन में देनी चाहिए। इसे ऑफलाइन और ऑनलाइन दोनों मोड से दर्ज कराया जा सकता है। शिकायत की FIR की कॉपी और कंप्लेंट नंबर जरूर लें।

फिर सीईआईआर https://ceir.gov.in/Home/index.jsp वेबसाइट को ओपन करें।

यहां तीन में से Lost mobile ऑप्शन को सेलेक्ट करना होगा। 

इसके बाद स्क्रीन पर एक पेज ओपन होगा, उसमें अपना मोबाइल नंबर, IMEI नंबर, FIR और मोबाइल के बिल की कॉपी अपलोड करें

इसके बाद मोबाइल फोन खोने की जगह, जिला, प्रदेश, पुलिस स्टेशन, FIR नंबर और फोन खोने की तारीख दर्ज करें

इन सारी जानकारियों के बाद अपना नाम और पता एंटर करें और प्रमाण के लिए आधार कार्ड की सॉफ्ट कॉपी अपलोड करके सबमिट बटन पर क्लिक करें

इस तरह चोरी के मोबाइल को ट्रेस किया जा सकेगा।