Bihar Assembly Monsoon Session: बिहार विधानमंडल का मानसून सत्र आरंभ, पहले दिन से ही हंगामा

Bihar Assembly Monsoon Session बिहार विधानमंडल (Bihar Legislature) का मानसून सत्र (Monsoon Session) सोमवार को शुरू हो चुका है। पांच दिनों तक चलने वाले इस सत्र में के हंगामा (Uproar) के पूरे आसार हैं। इसकी झलक पहले दिन से ही मिल रही है। विपक्ष के विधायक सदन के बाहर प्रदर्शन करते दिखे। राष्‍ट्रीय जनता दल (RJD) के विधायक सतीश दास एवं मुकेश रौशन सिर पर हेलमेट लगाकर झाल बजाते सदन में पहुंचे। पहले दिन से ही विपक्ष के तेवर बता रहे हैं कि पूरे हफ्ते सदन का माहौल गर्म रह सकता है।

मानसून सत्र के दौरान सदन में हंगामे के पूरे आसार

सदन के अंदर की बात करें तो वहां हंगामा तय है। विपक्ष के पास कई ऐसे मुद्दे हैं, जिनपर विमर्श में तल्खी के पूरे आसार हैं। बजट सत्र (Bihar Assembly Budget Session) के दौरान 23 मार्च को विधानसभा परिसर में विधायकों की पुलिस से पिटाई के मामले पर विपक्ष का रुख पहले से ही आक्रामक है। दो सिपाहियों के निलंबन को नाकाफी बताया जा रहा है। जातिगत जनगणना (Caste Census) एवं महंगाई (Inflation) के मुद्दों पर भी सत्तारूढ़ दलों को विपक्ष के हमले को झेलने के लिए तैयार रहना होगा। सत्र से पहले नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) दिल्ली से लौट आए हैं। पहले दिन वे विधानसभा पहुंचे। बताया जाता है कि कार्यवाही शुरू होने से उन्‍होंने महागठबंधन के नेताओं के साथ रणनीति तय की है।

पहले दिन ही विधानमंडल परिसर में विपक्ष का हंगामा

विधानमंडल में हंगामा की झलक पहले दिन ही मिल गई, जब आरजेडी के विधायक सतीश दास एवं मुकेश रौशन सिर पर हेलमेट लगाकर झाल बजाते पहुंचे। उनका इशारा बजट सत्र के दौरान विधानसभा में विपक्षी विधायकों की पिटाई की ओर था। भारतीय कम्‍युनिस्‍ट पार्टी के विाायकों ने भी विधायकों की पिटाई का मामला उठाते हुए प्रदर्शन किया। उन्‍होंने तीन कृषि कानूनों की वापसी के लिए विधानमंडल में प्रस्‍ताव पारित करने तथा कोविड के मृतकों के स्‍वजनों को मुआवजा देने की भी मांगें रखी है।  महंगाई पर लगा व जातिगत जनगणना की मांगें तो हैं हीं।

विधानसभा में आज के कार्यक्रम, एक नजर

स्पीकर विजय सिन्हा का प्रारंभिक संबोधन।

राज्यपाल द्वारा स्वीकृत अध्यादेशों एवं विधेयकों की प्रतियां सदन पटल पर रखी जाएंगी।

विधानसभा की विभिन्न समितियों के प्रतिवेदन रखे जाएंगे।

सरकार प्रथम अनुपूरक लाएगी।

दिवंगत नेताओं के शोक प्रकाश के बाद कार्यवाही अगले दिन तक स्थगित।