ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन का बूस्टर डोज शरीर के अंदर पैदा करता है मजबूत एंटीबॉडी


विश्वभर में कोरोना रोधी टीकाकरण का अभियान चलाया जा रहा है। वहीं, अब कोरोना के टीकों के बीच बूस्टर डोज लगाया जा रहा है। एक अध्ययन से पता चला है कि ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन का तीसरा डोज शरीर के अंदर एंटीबॉडी और टी सेल प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को बढ़ाते हैं। यह अध्ययन ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी द्वारा किया गया है।

इस अध्यन के अनुसार AZD2816 नाम का बूस्टर डोज उन व्यक्तियों को दिया जाएगा, जिन्हें पहले एस्ट्राजेनेका वैक्सीन/वैक्स्जर्विया या एक mRNA वैक्सीन की दो खुराकों के साथ पूरी तरह से टीका लगाया गया हो, उनके अंतिम इंजेक्शन के कम से कम तीन महीने बाद।

कंपनी ने रविवार को एक बयान में कहा, गैर-टीकाकरण वाले व्यक्तियों में, AZD2816 को दो खुराक के रूप में दिया जाएगा, चार या बारह सप्ताह के अलावा, या एस्ट्राजेनेका वैक्सीन / वैक्सजेरविया की पहली डोज के बाद दूसरी डोज के रूप में दिया जाएगा।

AZD2816 को उसी एडेनोवायरल वेक्टर प्लेटफॉर्म का उपयोग करके एस्ट्राजेनेका वैक्सीन / वैक्स्जर्विया के रूप में डिजाइन किया गया है, जिसमें बीटा (B1351) संस्करण के आधार पर स्पाइक प्रोटीन में मामूली आनुवंशिक परिवर्तन होते हैं, जिसे पहली बार दक्षिण अफ्रीका में पहचाना गया था।