देश में कोरोना के खिलाफ टीकाकरण जारी, सरकार का फैसला- 30 अप्रैल से पहले टीका लगवा चुके इन लोगों को लगेगी फ्री वैक्सीन

कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच देश में टीकाकरण का तीसरे चरण जारी है। शनिवार(1 मई)  से 18 से 44 साल के लोगों का टीकाकरण शुरू हुआ। टीके की अनुपलब्धता के कारण महाराष्ट्र, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, छत्तीसगढ़, गुजरात और जम्मू-कश्मीर समेत कुछ राज्यों में ही इस चरण की शुरुआत हो पाई। ज्यादातर राज्यों ने टीके की कमी का हवाला देते हुए अभी हाथ खड़े कर दिए। हालांकि, अगले कुछ दिनों में आपूर्ति बढ़ने के साथ ही देशभर में इस अभियान के गति पकड़ लेने की उम्मीद है। कोरोना से जंग में टीका अहम हथियार है। पहले दो चरण में स्वास्थ्यकर्मियों, फ्रंटलाइन वर्कर्स और 45 साल से ऊपर के लोगों के टीकाकरण के बाद केंद्र सरकार ने तीसरे चरण में 18 से 44 साल वालों को टीका लगाने की स्वीकृति दी है।

सरकार का फैसला

इस बीच स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि है कि टीकाकरण के पहले दो चरण में प्राथमिकता समूह के जिन लोगों ने 30 अप्रैल से पहले किसी निजी केंद्र पर टीका लगवाया था, उन्हें भी दूसरी डोज निशुल्क लगाई जाएगी। इसके लिए उन्हें सरकारी केंद्र पर जाना होगा। इन प्राथमिकता समूहों में स्वास्थकर्मी, फ्रंटलाइन वर्कर्स और 45 साल से ऊपर के लोग शामिल हैं। निजी केंद्र पर तय कीमत देकर दूसरी डोज लगवाने का विकल्प भी सबके पास रहेगा।

सरकार ने पहली मई से तीसरे चरण के रूप में 18 से 44 साल के लोगों का टीकाकरण शुरू करने का एलान किया है। इसकी जिम्मेदारी राज्यों और निजी केंद्रों को दी गई है। वहीं पहले दो चरण के प्राथमिकता समूह वाले लोगों का टीकाकरण सरकारी केंद्रों में निशुल्क चलता रहेगा। प्रश्न उन लोगों के लिए उठ रहा था, जिन्होंने पहली डोज किसी प्राइवेट सेंटर में लगवाई है। स्वास्थ्य मंत्रालय के अतिरिक्त सचिव मनोहर अगनानी ने कहा कि प्राथमिकता समूह वाले सभी लोगों को सरकारी केंद्रों पर निशुल्क दूसरी डोज लगेगी। हालांकि यदि कोई निजी केंद्र पर टीका लगवाना चाहता है, तो उस उस केंद्र द्वारा निर्धारित दर के हिसाब से लगवा सकेगा।