कल सेवामुक्त हो जाएगा देश का पहला विध्वंसक आईएनएस राजपूत, गौरवशाली रहे 41 साल


नई दिल्ली: भारतीय नौसेना का पहला विध्वंसक, आईएनएस राजपूत शुक्रवार यानी 21 मई को 41 साल बाद सेवामुक्त होने के लिए तैयार है। रक्षा मंत्रालय ने ये जानकारी दी है। आईएनएस राजपूत भारतीय नौसेना का पहला विध्वंसक है और वह जहाज था जिसने काशीन श्रेणी के विध्वंसक का नेतृत्व किया था। तत्कालीन यूएसएसआर द्वारा निर्मित आईएनएस राजपूत को पहली बार 4 मई, 1980 को कमीशन किया गया था, और इसने भारतीय नौसेना को 41 वर्षों से अधिक समय तक सेवा प्रदान की है।

 आईएनएस राजपूत को नौसेना डॉकयार्ड, विशाखापत्तनम में एक समारोह में सेवामुक्त किया जाएगा। कोविड 19 महामारी के कारण समारोह एक साधारण कार्यक्रम होगा, जिसमें केवल इन-स्टेशन अधिकारी और नाविक शामिल होंगे, जिसमें कोविड प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन किया जाएगा। आईएनएस राजपूत का निर्माण निकोलेव (वर्तमान यूक्रेन) में 61 कम्युनार्ड्स शिपयार्ड में उनके मूल रूसी नाम ‘नादेजनी’ के तहत किया गया था जिसका अर्थ है ‘होप’। इसे 17 सितंबर 1977 को लॉन्च किया गया था। मंत्रालय ने कहा कि राष्ट्र के लिए उसकी चार दशकों की शानदार सेवा के दौरान, जहाज को पश्चिमी और पूर्वी दोनों बेड़े में सेवा देने का गौरव प्राप्त है। ‘राज करेगा राजपूत’ के आदर्श वाक्य और अदम्य भावना के साथ आईएनएस राजपूत का वीर दल देश के समुद्री हित और संप्रभुता की रक्षा के लिए हमेशा सतर्क और हमेशा ‘ऑन कॉल’ रहा है।

जहाज ने राष्ट्र को सुरक्षित रखने के उद्देश्य से कई अभियानों में भाग लिया है। इनमें से कुछ में आईपीकेएफ की सहायता के लिए श्रीलंका में ऑपरेशन अमन, श्रीलंका के तट पर पेट्रोलिंग ड्यूटी के लिए ऑपरेशन पवन, मालदीव से बंधक स्थिति को हल करने के लिए ऑपरेशन कैक्टस और लक्षद्वीप से ऑपरेशन क्रॉसनेस्ट शामिल हैं। इसके अलावा, जहाज ने कई द्विपक्षीय और बहुराष्ट्रीय अभ्यासों में भाग लिया। यह जहाज भारतीय सेना रेजिमेंट- राजपूत रेजिमेंट से संबद्ध होने वाला पहला भारतीय नौसेना जहाज भी था।