ओडिशा-बंगाल में तबाही मचाने के बाद झारखंड पहुंचा 'यास' तूफान भारी बारिश का अलर्ट, जानें सभी अपड्टेस

ओडिशा और बंगाल के तटीय इलाकों में कहर बरपाने के बाद भले ही चक्रवात 'यास' कमजोर हो गया है, लेकिन यह तूफान झारखंड तक पहुंच गया है। आधी रात के बाद चक्रवात ने झारखंड में प्रवेश किया है। हालांकि, झारखंड में घुसते ही चक्रवात की गति काफी धीमी हो गयी है। रिपोर्ट के मुताबिक, यहां पर भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। इतना ही नहीं इस तूफान का असर बिहार, यूपी सहित कई राज्यों में देखने को मिल रहा है। 

अगले 12 घंटे में कमजोर पड़ सकता है यास तूफान- आइएमडी

मौसम विभाग की ताजा जानकारी के मुताबिक, चक्रवाती तूफान 'यास' कमजोर हो रहा है। यह 26 मई को 23:30 बजे दक्षिण झारखंड और इससे सटे उत्तर आंतरिक ओडिशा पर केंद्रित था। इसके अगले 12 घंटों के दौरान उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ने और धीरे-धीरे कमजोर पड़ जाने की संभावना है। ये तूफान 27 मई को 05:30 बजे दक्षिण झारखंड और इसके आस-पास केंद्रित था। इसके उत्तर की ओर बढ़ने व कुछ घंटों में और अधिक कमजोर पड़ जाने की संभावना है।

कोलकाता में आज भी बारिश का अलर्ट

बंगाल की खाड़ी से उटे चक्रवात तूफान ने बुधवार को ओडिशा-बंगाल के सीमवर्ती इलाकों में जमकर तबाही मचाई। मौसम विभाग के मुताबिक, आज भी कोलकाता, पूर्व और पश्चिम मेदिनीपुर जिलों के कुछ हिस्सों में बिजली और हल्की से मध्यम बारिश होने की संभावना है। 

उत्तर प्रदेश में भारी बारिश की आशंका (Uttar Pradesh Weather News) उत्तर प्रदेश के मौसम की बात करें तो यहां पर कई इलाको में आज बारिश हो सकती है। यहां पर स्थित बरेली में टॉक्टे के बाद यास तूफान का असर देखने को मिल सकता है। मौसम विभाग ने तीन दिन बारिश का पुर्वानुमान जताया है। कुछ स्थानों पर 40 से 60 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से धूल भरी आंधी भी चल सकती है।

बिहार में आज से तीन दिनों तक मूसलाधार बारिश का अलर्ट

उधर, बिहार में भी यास तूफान का असर देखने को मिल सकता है। भागलपुर और आसपास के क्षेत्रों में आज से तीन दिनों तक तेज हवाओं के साथ मूसलाधार बारिश हो सकती है। इसको लेकर मौसम विभाग ने अलर्ट जारी किया है। बता दें कि यहां पर बुधवार सुबह से ही आसमान में काले बादलों का जमघट लगा रहा।

जम्मू-कश्मीर में बना हुआ है पश्चिमी विक्षोभ

स्काईमेट वेदर (Skymetweather.com) के मुताबिक, यास तूफान के साथ-साथ पश्चिमी विक्षोभ अभी जम्मू-कश्मीर और आसपास के इलाकों में बना हुआ है। इसके साथ ही एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र मध्य पाकिस्तान और इससे सटे पश्चिमी राजस्थान के निचले स्तरों पर स्थिर है, जिसके चलते उत्तर पूर्व भारत, केरल, अंडमान और निकोबार द्वीप पर हल्की से मध्यम बारिश की संभावना है। वहीं दक्षिण राजस्थान के विदर्भ मराठवाड़ा और कोंकण और गोवा के कुछ हिस्सों में हल्की बारिश की संभावना जताई गई है।